• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Crows were killed due to bird flu, confirmation in investigation - instructions to conduct investigation

दैनिक भास्कर हिंदी: बर्डफ्लू से हुई थी कौवों की मौत, जांच में पुष्टि - केन्द्र सरकार ने दिए मुर्गियों के सेम्पल लेकर जांच कराने के निर्देश

April 2nd, 2020

डिजिटल डेस्क कटनी। रेलवे स्टेशन रीठी के आसपास बीते दिनों हुई कौवों की मौत का कारण बर्डफ्लू था। इसकी पुष्टि भारतीय कृषि अनुसंधान केन्द्र की आनंदनगर हथाईखेड़ा भोपाल स्थित हाईटैक एनिमल डिसीज लेबोटरी में की गई जांच में हुआ है। बर्ड फ्लू से कौवों की मौत की पुष्टि होते ही प्रशासन में हड़कम्प मच गया और केन्द्र सरकार भी एक्शन में आ गई। भारत सरकार के मत्स्य, पशु पालन एवं डेयरी मंत्रालय ने पूरे क्षेत्र की सघन निगरानी करने एवं मुर्गियों के सेम्पल लेकर जांच कराने के निर्देश दिए हैं। केन्द्र सरकार का पत्र आते ही प्रदेश शासन भी एक्शन मोड में आया और शासन के निर्देश पर कलेक्टर ने पशु पालन, राजस्व, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग तथा नगरनिगम की टीम गठित कर भारत शासन के निर्देशों के अनुरूप कार्यवाही करने कहा है। उल्लेखनीय है कि 22-23 मार्च को रीठी रेलवे स्टेशन के समीप बड़ी संख्या में पक्षियों के मरने पर स्टेशन मास्टर ने रेलवे प्रबंधन सहित पशु पालन एवं वन विभाग को सूचना दी थी। सूचना पर पशु पालन विभाग की टीम ने पहुंचकर मृत पक्षियों के नमूने जांच के लिए   हाईटैक एनिमल डिसीज लेबोटरी आनंदनगर हथाईखेड़ा भोपाल भेजे। 
प्रवासी पक्षियों, मुर्गियों के सेम्पल लेने निर्देश-
मृत पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के बाद मत्स्य, पशु पालन एवं डेयरी मंत्रालय भारत सरकार के निर्देश मिलते ही कलेक्टर ने रिपिड रिस्पांस टीम गठित कर रीठी एवं आसपास के क्षेत्र के तालाबों में आने वाले प्रवासी पक्षियों, पोल्ट्री फार्म एवं घरों में पाली जाने वाली मुर्गियों के सेम्पल लेकर जांच के लिए भेजने के निर्देश दिए। इसके लिए कलेक्टर ने विभिन्न विभागों की संयुक्त टीम भी गठित की है। साथ ही पोल्ट्री फार्मों पर सतत निगरानी रखने के निर्देश पशु चिकित्सा विभाग को दिए हैं।
इनका कहना है-रीठी में पिछले दिनों पक्षियों की मौत की सूचना पर नमूने एकत्र कर कृषि अनुसंधान केन्द्र की हाईटैक एनिमल डिसीज लेबोटरी आनंदनगर हथाईखेड़ा भोपाल भेजे गए थे। जांच में मृ़त पक्षियों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। भारत सरकार के निर्देश पर कलेक्टर ने टीम गठित की है। 
इनका कहना है
भारत सरकार की एडवाइजरी एवं कलेक्टर के निर्देश के अनुसार रीठी के 15 किलोमीटर एरिया में  पोल्टी फार्म व घरों में पाली जाने वाली मुर्गियों के सेम्पल एकत्र किए जा रहे हैं। साथ ही लोगों को इस तरह की घटना होने पर तत्काल सूचना देने कहा गया है। उस क्षेत्र में मुर्गियों की बिक्री भी प्रतिबंधित कर दी गई है।
डॉ.आर.पी.एस.गहरवार उप संचालक वेटनरी
 

खबरें और भी हैं...