दैनिक भास्कर हिंदी: जन आशीर्वाद नहीं, यह शिवराज की अहंकार यात्रा है : दिग्विजय सिंह

July 27th, 2018

डिजिटल डेस्क, छतरपुर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की जन आशीर्वाद यात्रा अहंकार यात्रा है। ढाई करोड़ के रथ में 20 फिट ऊंचाई से फूलों की वर्षा करवा रहे हैं, जनता नीचे धक्के खा रही है। करोड़ों रुपए का सरकारी धन उड़ाया जा रहा है। पूरी सरकारी मशीनरी जुटी है। यह कौनसी आशीर्वाद यात्रा है? यह बात प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को नगर प्रवास के दौरान भास्कर से मुलाकात में कही।

गुरु पूर्णिमा के अवसर पर गृहस्थ संत पंडित देव प्रभाकर शस्त्री दद्दा जी से खेलग्राम में उन्होंने आशीर्वाद लिया। खेलग्राम में शुक्रवार से आलोक चतुर्वेदी द्वरा वृहद गुरु पूर्णिमा महोत्सव एवं तीन दिवसीय शिवलिंग निर्माण रुद्र यज्ञ का आयोजन किया गया है। दिग्विजय सिंह ने खजुराहो में जैन संत आचार्य विद्यासागर महाराज से भी आशीर्वाद लिया।

सिंह ने भास्कर से एक प्रश्न के जवाब में कहा कि मैं किसी धर्म का विरोधी नहीं, बल्कि धर्म के नाम पर पाखंड और अपने स्वार्थ के लिए उन्माद फैलाकर हिंसा भड़काने का विरोधी हूं। हिन्दू धर्म हो या इस्लाम कोई भी धर्म इसकी इजाजत नही देता। जो भी ऐसा घृणित काम करता है मैं उसका विरोधी हूं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सभी मे प्रेम और सद्भाव की बात करती है लेकिन भाजपा नफरत और हिंसा की राजनीति करती है। 

शिवराज माफी मांगे
प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वरा देश द्रोही कहने के सवाल पर सिंह ने कहा कि मैं प्रदेश का 10 साल मुख्यमंत्री रहा, अभी राज्य सभा सदस्य हूं। संवैधानिक पद पर रहकर यदि मैं  देशद्रोही हूं तो मुझे मुख्यमंत्री गिरफ्तार क्यों नहीं करते। इसीलिए कल मैं भोपाल में खुद टीटीनगर थाने गया था कि मेरे खिलाफ कार्रवाई करो, लेकिन वहां टीआई ने कहा कि आपके खिलाफ कोई शिकायत नहीं है। इसलिए हम गिरफ्तार नहीं कर सकते।

सिंह ने कहा कि शिवराज अपने आरोप के लिए माफी मांगे और ऐसा नही करते तो मैं न्यायालय जाऊंगा। कांग्रेस में गुटबाजी और मुख्यमंत्री के नाम पर सिंह ने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने दीजिए मुख्यमंत्री का नाम तय हो जाएगा। सभी कांग्रेस नेता अपना काम कर रहे है, सिर्फ एक ही लक्ष्य है भाजपा की सरकार को उखाड़ फेंकना।