comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

गांजा बेचने पर चार दोषियों को 10 साल की कठोर कैद

गांजा बेचने पर चार दोषियों को 10 साल की कठोर कैद

डिजिटल डेस्क छतरपुर । विशेष न्यायाधीश संजय कुमार जैन की कोर्ट ने सोमवार को चार आरोपियों को सजा सुनाई है। इनसे करीब 90 किलोग्राम अवैध गांजा बरामद किया गया था। ये अवैध गांजा का कारोबार करते थे। इस पर कोर्ट ने तीन आरोपियों को दस-दस साल की सजा और चौथे आरोपी को तीन साल की कठोर कैद की सजा सुनाई। कोर्ट सभी आरोपियों पर अर्थदंड भी अधिरोपित किया है। 
4 साल पुराना है मामला
एडवोकेट वशिष्ठ नारायण श्रीवास्तव ने बताया कि भगवां थाना क्षेत्र केे घुवारा चौकी प्रभारी शैलेन्द्र सिंह यादव ने 12 अगस्त 15 को वाहन चैकिंग के दौरान एक इंडिगो कार क्रमांक एमपी 09-5970 को रोका। इसमें तीन युवक सवार थे। चैकिंग के दौरान जब कार की डिग्गी खोली गई तो इसमें सफेद पालीथिन में खाकी कागज के 20 पैकेट मिले। इस पर पुलिस ने इन पैकेट को खोलकर चैक किया तो इसमें गांजा पाया गया। जब इन आरोपियों ने पुलिस ने पूछताछ की तो इन्होंने बताया कि उनके दो साथी और हंै। वे रास्ते में उतरकर गांजा बेच रहे हैं। इस पर पुलिस ने अन्य दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। इनसे 5 किलोग्राम 500 ग्राम गांजा बरामद किया गया। इन पांचों आरोपियों के खिलाफ एनडीपीएस  के तहत मामला दर्ज किया गया। इन्हें कोर्ट में पेश किया गया।
इन मामले में विशेष न्यायाधीश संजय कुमार जैन ने सुनवाई की। इस मामले में कोर्ट ने दोनों पक्षों के वकीलो के तर्क सुने। गवाहों और सबूतों के आधार पर आरोपी इमरान खान, शाहरुख खान, जीतेन्द्र, राजेन्द्र लोधी और राजाराम लोधी को अवैध मादक पदार्थ बेचने का आरोपी पाया।  इस पर उज्जैन निवासी इमरान खान, शाहरुख खान और मंसूरी समस्त निवासी उज्जैन को 10-10 साल सश्रम कारावास और एक-एक लाख रुपए के जुर्माने की सजा से दंडित किया। आरोपी राजाराम लोधी निवासी शाहगढ़ को एक धारा में 10 वर्ष का कारावास व एक लाख रुपए के जुर्माना और दूसरी में दोष सिद्ध होने पर 5 वर्ष के कारावास और 50 हजार रु के जुर्माने से दंडित किया। इस तरह से राजाराम लोधी को दस साल की कठोर कैद और डेढ़ लाख के जुर्माने की सजा हुई। राजेंद्र लोधी को 3 वर्ष के सश्रम कारावास और 25 हजार जुर्माने से दंडित करने का आदेश पारित किया गया है।
 

कमेंट करें
hpuP5
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।