दैनिक भास्कर हिंदी: जनपद पंचायत का सब इंजीनियर 25 हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार

August 26th, 2019

डिजिटल डेस्क, सागर। सोमवार को लोकायुक्त पुलिस ने सागर जनपद के सब इंजीनियर  को 25 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया तथा कोर्ट में पेश किया जहाँ से सब इंजीनियर को जेल भेज दिया गया हैं। अधिकारी या फिर कर्मचारियों द्वारा रिश्वत लिए जाने के मामले आए दिन सामने आ रहे हैं। 

5 प्रतिशत के मान से 40 हजार रूपए की थी मांग

लोकायुक्त पुलिस के अनुसार सागर जनपद की ग्राम पंचायत बाग खेजरा के सरपंच प्रदीप पाण्डेय ने शासन की योजना के तहत 14 लाख की लागत से पंचायत भवन का निर्माण करवाया है। इस निर्माण को लेकर 6 लाख रूपए का भुगतान किया जा चुका है। शेष राशि 8 लाख के भुगतान के  लिए मनरेगा के सब इंजीनियर आशीष पस्टारिया ने 5 प्रतिशत के मान से 40 हजार रूपए की मांग की थी। सरपंच प्रदीप पाण्डेय ने इसकी शिकायत लोकायुक्त पुलिस को की। पुलिस ने शिकायत की तस्दीक की। 

बाद में 15 हजार रूपए देगें

सोमवार को मकरोनिया में बिल्यिर्डस कैम्पस में सरपंच प्रदीप पाण्डेय ने फोन करके सब इंजीनियर आशीष पस्टारिया को बुलाया। पस्टारिया  बिल्यिर्डस खेलने रोज यहाँ आते हैं। आशीष पस्टारिया के आने पर 25 हजार रूपए पाण्डेय ने उसे दिए। इस पर सब इंजीनियर ने कहा कि 8 लाख के भुगतान के एवज में 40 हजार रूपए होते हैं। तब प्रदीप पाण्डेय ने कहा कि अभी 25 हजार रूपए ले लो बाद में 15 हजार रूपए दे देगें। इसी दौरान लोकायुक्त पुलिस के इंस्पेक्टर बी.एम. द्विवेदी की टीम ने धरदबोचा। लोकायुक्त ने आरोपी सब इंजीनियर के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत मामला कायम किया है। गिरफ्तारी के बाद सब इंजीनियर को न्यायालय पेश किया गया। न्यायालय ने उसे जेल भेज दिया हैं। जनपद पंचायत सागर से मिली जानकारी के अनुसार सब इंजीनियर आशीष पस्टारिया के क्षेत्र में 10 पंचायतें आती है। इनमें सेमरा अंगद, चंद्रपुरा, खड़ेराभान, रेंवझा, बेलईमाफी, घाटमपुर, बरोदारहली, खैजराबाग, हिलगन, ढाना, खिरियाखुर्द शामिल है। इनमें चल रहे निर्माण कार्य के अवलोकन, मूल्यांकन और भुगतान के लिए टीप लगाने को लेकर कई महीनों से शिकायतें मिल रही थीं।

खबरें और भी हैं...