comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

खण्डवा: युवा उद्यमियों को दिया जायेगा सौर ऊर्जा टेक्नालाजी संबंधी प्रशिक्षण

January 07th, 2021 16:18 IST
खण्डवा: युवा उद्यमियों को दिया जायेगा सौर ऊर्जा टेक्नालाजी संबंधी प्रशिक्षण

डिजिटल डेस्क, खण्डवा। खण्डवा मध्यप्रदेश में सौर ऊर्जा क्षेत्र में निवेश की असीम संभावनाओं और उपयोग को देखते हुए युवा उद्यमियों के लिए सौर ऊर्जा टेक्नालॉजी के क्षेत्र में कौशल विकास के लिये मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम और राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के साथ एनर्जी स्वराज फाउंडेशन 5 से 10 अप्रैल 2021 तक छह दिन का सशुल्क व्यावहारिक प्रशिक्षण दिया जायेगा। प्रारंभिक तौर पर हर जिले से सिर्फ दस लोगों को प्रशिक्षण दिया जायेगा। यह प्रशिक्षण आई.आई.टी बॉम्बे के प्रोफेसर, एनर्जी स्वराज फाउंडेशन के संस्थापक एवं मध्यप्रदेश के सौर ऊर्जा के ब्रांड एम्बेसेडर प्रोफेसर चेतन सिंह सोलंकी और उनके मास्टर ट्रेनर्स द्वारा राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, भोपाल में दिया जायेगा। प्रशिक्षण प्राप्त युवा उद्यमी सौर पी.वी. टेक्नोलॉजी एवं सिस्टम डिजाइन में सैद्धांतिक ज्ञान के अतिरिक्त सौर पी.वी. सिस्टम के इंस्टॉलेशन में पारंगत होंगे। वे सिस्टम के इंस्टालेशन की लागत-व्यय आदि की गणना सीखेंगे और साथ-साथ सोलर के वर्तमान मार्केट एवं व्यापार की संभावनाओं और नये विकल्पों से भी परिचित होंगे। प्रशिक्षण के बाद युवा उद्यमी ऑफ-ग्रिड रूफ टॉप सोलर पी.वी. सिस्टम को डिजाइन कर स्थापित कर पाएंगे। किसे मिलेगा यह प्रशिक्षण सौर ऊर्जा टेक्नोलॉजी संबंधी इस प्रशिक्षण में कोई भी आई.टी.आई, डिप्लोमा, इंजीनियरिंग, विज्ञान में स्नातक और अधिकतम 40 वर्ष आयु का व्यक्ति शामिल हो सकता है। स्नातक कर रहे विद्यार्थी या सरकारी क्षेत्र में पूर्णकालिक सेवाएँ दे रहे लोग पात्र नहीं हैं। प्रदेश के हर जिले के केवल दस लोगों को पहले-आओ-पहले-पाओ के आधार पर चुना जाएगा। प्रशिक्षण में शामिल होने की अंतिम तारीख 28 फरवरी है। आवेदन-पत्र ई-मेल info@energyswaraj.org पर मेल करके प्राप्त किये जा सकते हैं।

कमेंट करें
q6bp3
कमेंट पढ़े
Shriram lodhi January 17th, 2021 10:52 IST

I am so highly appreciated that I participate in this movement related to public welfare. This is so most efficient grid that is more resistant to disruptions, it will help to decrease carbon dioxide emissions from a greater use of clean electricity.