comScore

कमिश्नर ने विभाग पर जताई चिंता, अब सेहत देखकर लगेगी पुलिसकर्मियों की ड्यूटी

कमिश्नर ने विभाग पर जताई चिंता, अब सेहत देखकर लगेगी पुलिसकर्मियों की ड्यूटी

डिजिटल डेस्क, नागपुर। अब नागपुर में डायबिटीज, हार्ट डिसीज और ब्लडप्रेशर जैसी बीमारियों से पीड़ित पुलिस जवानों के लिए उनकी सेहत को देखते हुए ड्यूटी लगाई जाएगी। पुलिसबल में कार्यरत कुछ कर्मचारियों की ड्यूटी के दौरान हार्ट अटैक और अन्य कारणों से हुई आकस्मिक मृत्यु की घटनाओं पर संज्ञान लेते हुए पुलिस आयुक्त डाॅ भूषणकुमार उपाध्याय ने गंभीरता बरतने की सलाह दी। विभाग की ओर से जरूरी कदम उठाने का वादा भी किया।

ड्यूटी और बीमारी के बीच समन्वय नहीं बन पाने के कारण कई पुलिस जवानों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। अब यह नौबत न आए इसके लिए नववर्ष में महिला सुरक्षा को लेकर जहां विभिन्न योजनाएं पुलिस तैयार करने वाली है, वहीं पुलिस कल्याण के लिए प्रयत्न किए जाएंगे। नागपुर शहर पुलिस विभाग में करीब 25 फीसदी पुलिस जवानों को मधुमेह, 10 प्रतिशत हार्ट और 35 प्रतिशत जवानों को ब्लडप्रेशर जैसी बीमारी से पीड़ित हैं। यह सभी जवान समय पर भोजन कर सकें और दवा खा सकें इसके लिए उन्हें अब ऐसी ड्यूटी दी जाएगी, जिससे उनकी सेहत पर ज्यादा असर न पड़े। यह पहल पुलिस आयुक्त डाॅ. भूषणकुमार उपाध्याय ने नए साल में शुरू करने जा रहे हैं। इसके लिए पुलिस अस्पताल से रिकार्ड मंगाया गया है।  पुलिस अस्पताल के पास जवानों की बीमारियों की ई-फाइल का रिकार्ड है।

कई अनडिटेक्ट मामले अभी तक नहीं सुलझे
नववर्ष में पुलिस आयुक्त डाॅ. भूषणकुमार उपाध्याय ने पिछले वर्ष के अपराध को लेकर समीक्षा की। पुलिस आयुक्त ने माना कि संतरानगरी में हत्या की 90 प्रतिशत घटनाओं का कारण शराब रही है। संतरानगरी में मुंबई से आने वाले ड्रग्स पर रोकथाम के लिए वहां के क्राइम ब्रांच से तालमेल बनाकर आगे कार्य किया जाएगा। उन्होंने यह भी माना कि शहर पुलिस ने कई अनडिटेक्ट मामले को अभी तक नहीं सुलझा पाई है। उनकी नए सिरे से जांच की जाएगी।

रिश्वतखोरों पर कसेंगे लगाम
गत वर्ष में एसीबी ने 22 ट्रैप कर करीब 41 पुलिस कर्मचारियों को रिश्वत लेते पकड़ा था।  बढ़ती रिश्वत खोरी के मामले को लेकर पुलिस आयुक्त ने कहा का डिफॉल्टर पुलिस कर्मचारियों की सूची तैयार की गई है। अगर किसी के खिलाफ गुप्त जानकारी मिलती है तो उस पर निश्चित तौर पर कार्रवाई की जाएगी।

मकोका कार्रवाई में नागपुर शहर राज्य में "नंबर वन' : गंभीर स्वरूप के अपराध बार-बार करने वाले आरोपियों पर जोरदार कार्रवाई की गई है। शहर पुलिस की कार्यकुशलता के चलते 13 गिरोहों पर मकोका की कार्रवाई की गई। इस दौरान गिरोह के 65 बदमाश को गिरफ्तार जेल भेजा गया है। एमपीडीए की कार्रवाई कर 33 बदमाशों को गिरफ्तार जेल भेजा गया है।

2019 में अपराधों में आई 10 प्रतिशत कमी
इसी तरह 2019 में इन विभिन्न अपराधों में कमी आने की बात कही गई है। 31 दिसंबर 2019 के आखिर तक इन्हीं विभिन्न मामलों में कुल 7722 मामलों से 5006 मामलों का खुलासा हुआ है। 2018 में कुल मामले 8585 हुए थे, जिसमें 5367 मामलों में खुलासा हुआ था। जिसके कारण 2018 की तुलना में पिछले वर्ष कुल अपराधों में कुल 863 की कमी आई है, जो करीब 10 प्रतिशत है। 2019 में हथियार कानून के अंतर्गत दर्ज किए गए अपराधों में फायरआर्म्स रखने के मामले में 31 मामले दर्ज किए गए। जिसमें 17 पिस्टल, 10 देशी कट्टे, 2 रायफल, 2 माउजर, 3 रिवाल्वर और 52 कारतूस जब्त किए गए थे, इसमें आरोपियों की गिरफ्तार की संख्या 41 रही।

नागपुर पुलिस ने जारी की तुलनात्मक रिपोर्ट
विभाग ने एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें 2018 और 2019 में हुए अपराधों की तुलानात्मक जानकारी दी। 31 दिसंबर 2018 के अंत तक हत्या का प्रयास के 77 मामले दर्ज हुए, सभी उजागर किए गए। डकैती के  25, डकैती की पूर्व तैयारी के 29, चोरी के 243 मामले हुए इसमें  154 का खुलासा हुआ। सेंधमारी के  858 मामलों में 258 का खुलासा हुआ।  चोरी के कुल 2629 मामलों में 859 मामले उजागर हुए।

कई कुख्यात बदमाशों पर कसा शिकंजा
महापौर संदीप जोशी पर फायरिंग का प्रकरण पुलिस के लिए चुनौती है। इस प्रकरण के आरोपी जल्द पुलिस गिरफ्त में होंगे। पुलिस आयुक्त ने शहर में अपराध और पुलिस की कार्रवाई का वार्षिक लेखा-जोखा की समीक्षा करने के बाद पत्र परिषद में उन्होंने वर्ष 2018 और 2019 के दरमियान अपराधों और अपराधियों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शहर को ड्रग्स मुक्त करने के लिए पुलिस ने ड्रग्स माफिया आबू पर शिकंजा कसा। उसके बाद कुख्यात बदमाश संतोष आंबेकर पर नकेल कसी गई। पत्र परिषद में सह पुलिस आयुक्त रवींद्र कदम, अपर पुलिस आयुक्त पुलिस नीलेश भरणे तथा अपर आयुक्त महावरकर उपस्थित थे। इस दौरान पुलिस उपायुक्त विनीता साहू, निर्मलादेवी, चिन्मय पंडित, नीलोत्पल, गजानन राजमाने सहित पुलिस के अनेक अधिकारी कर्मचारी भी उपस्थित थे। कार्यक्रम के आरंभ में पत्रकार दिवस पर पुलिस आयुक्त के हाथों वरिष्ठ पत्रकार महेश उपदेव का पुष्पगुच्छ देकर सम्मान किया गया।

कमेंट करें
A6Hgk