comScore

जादू टोना के शक में की थी वृद्ध की गला घोंटकर हत्या, दोनो आरोपी गिरफ्तार

जादू टोना के शक में की थी वृद्ध की गला घोंटकर हत्या, दोनो आरोपी गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क, सीधी। बीस दिन पूर्व हुई बेटी की मौत का बदला उसके चाचा एवं पिता ने निर्दोश वृद्ध की हत्या कर लिया। जादू टोना के शक में बुजुर्ग की निर्मम हत्या करने के मामले में सिटी कोतवाली पुलिस ने घटना में शामिल दोनो आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए अंधी हत्या का खुलासा कर दिया है।

कमरे में पाया गया था शव

घटनाक्रम के अनुसार 26 जुलाई 2019 को रघुराई कोल ने सूचना दी थी कि  रघुपति कोल पिता सरिमन कोल उम्र 67 वर्ष निवासी पटेहरा खुर्द का शव एक बंद कमरे के अंदर चारपाई पर पड़ा है , जिसके गले में खरोंच के निशान है तथा दोनो कान से खून का रिसाव है। उक्त सूचना पर सिटी कोतवाली पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पंचनामा कार्रवाई शुरू की। प्रथम दृष्टया प्रतीत हो रहा था कि मृतक की मौत गला घोंटकर हत्या करने से हुई है। पोस्ट मार्टम कार्रवाई में जिला अस्पताल के डाक्टर ने भी मौत का कारण गला घोटने एवं दम घुटने के कारण बताया। यह जानकारी सामने आने पर पुलिस ने अपने मुखबिरों को सजग किया। मुखबिरों ने गांव में जनचर्चा के हवाले से बताया कि मृतक रघुपति कोल पर जादू टोना करने का शक लोगों का था। पिछले वर्ष मृतक के छोटे भाई छोटे कोल की लड़की की मृत्यु हो गई थी। जिससे दोनो में इस बात को लेकर मन मुटाव था। 

भतीजी की मौत का लिया बदला

जानकारी सामने आने पर पुलिस ने पूंछतांछ शुरू की तो छोटे ने बताया कि घटना दिनांक से एक दिन पूर्व से वह गांव से बाहर अपने समधी के यहां खड्डी में था। पुन: जानकारी मिली कि मृतक के पड़ोसी सुन्दर जायसवाल की 7 वर्षीय बेटी की मृत्यु लगभग 20 दिन पहले हुई थी। सुन्दर का बड़ा भाई पिंटू उर्फ शिव प्रकाश जायसवाल अक्सर बोलता था कि मृतक रघुपति ने मेरी भतीजी को जादू टोना से मार दिया है। यह जानकारी सामने आने पर पुलिस ने सुन्दर एवं उसके बड़े भाई पिंटू उर्फ शिवप्रकाश जायसवाल, सुन्दर जायसवाल के साले बृजेन्द्र जायसवाल एवं पिंटू के साथी किशन उर्फ कृष्ण कुमार कोटवार से बारीकी से पूंछतांछ शुरू की। पुलिस की पूंछतांछ के दौरान आरोपी पिंटू उर्फ शिवप्रकाश जायसवाल पिता जयकरण जायसवाल उम्र 28 वर्ष एवं किसन उर्फ कृष्णकुमार कोटवार पिता बंशबहादुर कोटवार उम्र 21 वर्ष निवासी पटेहरा खुर्द  टूट गए। इनके द्वारा स्वीकार किया गया कि उन्होने सुनियोजित तरीके से हत्या की है। घटना की रात करीब 11 बजे दोनो आरोपी खाना पीना के बाद  आंनद बहादुर सिंह के बगीचे पर पहुंचे जहां मृतक मड़ई बनाकर रहता था। प्राय: मृतक की पत्नी एवं बच्चे घर पर ही रहते थे। मृतक रघुपति कोल करीब 15 वर्षो से आनंद बहादुर सिंह की खेती का काम देखता था। उसके मड़ई में पहुंचने के बाद दोनों ने दरवाजा खुलवाया और अंदर पहुंच गए। अंदर आते ही मृतक का गला हांथ से एवं मुंह बनियान से दबा लिया। मृतक की चारपाई में ही उसको गिराकर तौलिया से दोनो आरोपियों ने गला घोंटकर हत्या कर दी। जब आरोपियों को यकीन हो गया कि रघुपति की मौत हो चुकी है तो  इन्होने मड़ई का दरवाजा बाहर से बंद कर खेत से होते हुए कहुआ नदी पर पहुंचकर साक्ष्य मिटाने तौलिया फेंक दिया एवं दोनो आरोपी पिंटू जायसवाल के घर में बनी पानी की टंकी में हांथ धोये। आरोपी कृष्णकुमार ने अपनी बनियान जिससे वह आरोपी का मुंह दबाया था उसको पिंटू की टंकी के दक्षिण तरफ फेंक दिया था। जिसे आरोपियों द्वारा निकाल कर देने से मौके पर पुलिस ने जप्त किया। आरोपियों के विरूद्ध हत्या का अपराध पूरी तरह से प्रमाणित पाये जाने पर इन्हे न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया।
 

कमेंट करें
ihIgK