दैनिक भास्कर हिंदी: पुणे में 5 साल की मासूम के साथ रेप करने वाला सलाखों के पीछे, मुंबई में भी बच्ची के साथ गैंग रेप- सुधार गृह भेजे गए दो नाबालिग

February 6th, 2019

डिजिटल डेस्क, पुणे। हड़पसर में एक सिरफिरे शख्स ने पांच साल की बच्ची का पहले रेप किया, फिर उसका सिर दीवार पर पटककर जान लेने की कोशिश की। 4 फरवरी दोपहर साढ़े तीन से चार बजे के बीच आरोपी बच्ची को बिल्डिंग की छत पर ले गया था। जहां उसने मासूम को हवस का शिकार बनाया। इसी बीच जब बच्ची चिल्लाने लगी, तो आरोपी उग्र हो गया। उसने बच्ची का सिर टैरिस की दीवाल पर जोर से पटका, इससे बच्ची घायल हो गई। आरोपी को लगा कि बच्ची की मौत हो चुकी है, लेकिन मासूम जैसे तैसे लहूलुहान हालत में घर पहुंची, जहां उसने परिजन को जानकारी दी। घबराए पिता ने बच्ची को तुरंत अस्पताल भर्ती कराया। बुधवार को पुलिस ने आरोपी पर शिकंजा कस उसे गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया। आरोपी का नाम गजानन लक्ष्मण चाकोते है, उसकी उम्र 35 साल बताई जा रही है। सूचना मिलते ही पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी थी। पीड़ित बच्ची की मां ने थाने में मामले की शिकायत की थी। जिसके बाद पुलिस तुरंत हरकत में आ गई। आरोपी के खिलाफ हत्या की कोशिश और लैंगिक शोषण से जुड़ी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया। 

मुंबई में नौ साल की बच्ची के साथ गैंग रेप, दो नाबालिग गिरफ्तार

उधर मुंबई में नौ साल की बच्ची के साथ गैंग रेप के आरोप में पुलिस ने 10 और 11 साल के दो लड़को को हिरासत में लिया है। आरोपियों के खिलाफ पाक्सो और आईपीसी की धाराओं के तहत सामूहिक बलात्कार का मामला दर्ज किया गया है। कोर्ट में पेशी के बाद दोनों को डोंगरी बाल सुधार गृह में भेज दिया गया है। मामला अंधेरी के अंबोली इलाके का है। शिकायत के मुताबिक यहां की एक बहुमंजिला इमारत में रहने वाली लड़की आरोपी लड़कों से साथ खेल रही थी। आरोपी लड़की को अपने साथ लिफ्ट की मदद से 12वीं और 13वीं मंजिल के बीच स्थित गलियारे में ले गए और उसका यौन उत्पीड़न किया और फरार हो गए। वारदात 30 जनवरी को हुई। लड़की ने अगले दिन मां से पेट दर्द की शिकायत की। लड़की की मां को शुरूआत में लगा कि उसे कोई बीमारी है लेकिन बाद में दर्द की वजह बार-बार पूछने पर लड़की ने घटना की जानकारी दी। महिला ने अपने विदेश में रहने वाले पति को मामले की सूचना दी और फिर उनकी सलाह से एक फरवरी को अंबोली पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज कराई गई। वारदात की जानकारी मिलने के बाद स्थानीय लोगों में भी नाराजगी फैल गई। इसे देखते हुए पुलिस ने बच्ची की डॉक्टरी जांच कराई और प्राथमिक रिपोर्ट के आधार पर दोनों लड़कों के खिलाफ आईपीसी और पाक्सो कानून की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया।  
 

खबरें और भी हैं...