comScore

15000 रू. की रिश्वत लेते ट्रैप हुआ प्रभारी प्राचार्य - शिष्यवत्ति के लिए मांगे थे रू.

15000 रू. की रिश्वत लेते ट्रैप हुआ प्रभारी प्राचार्य - शिष्यवत्ति के लिए मांगे थे रू.

डिजिटल डेस्क सीधी । पुलिस ने यहां शिष्यवत्ति के लिए रिश्वत की मांग करने वाले प्रभारी प्राचार्य को ट्रेप कर उसके विरूद्ध मामला पंजीबद्ध किया है । इस संबंध में बताया गया है कि लोकायुक्त टीम रीवा ने एक प्रभारी प्राचार्य को रंगे हाथ 15000 रू. रिश्वत लेते ट्रैप किया है। कार्रवाई के बाद से आदिम जाति कल्याण विभाग में हड़कंप मच गया है। प्राचार्य द्वारा छात्र से शिष्यवृत्ती बैंक स्क्रोल के प्रमाणीकरण के लिए रिश्वत की मांग की गई थी।
पांच हजार लिए थे एडवांस
 मंगलवार की सुबह करीब 9:00 बजे लोकायुक्त की टीम शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भदौरा पहुंचकर जाल बिछाया और वादे के मुताबिक रामायण प्रसाद जयसवाल रिश्वत लेकर प्राचार्य के पास पहुंचा जैसे ही प्राचार्य को रिश्वत दिया तो लोकायुक्त टीम ने रंगे हाथ धर दबोच लिया घटना की जानकारी लगते ही प्रशासनिक अमले में हड़कंप मच गया है। आदिम जाति कल्याण विभाग में रिश्वत का खेल काफी दिनों से चल रहा था। 
 उप पुलिस अधीक्षक लोकायुक्त बीके पटेल ने बताया कि रामायण प्रताप सिंह प्रभारी प्राचार्य शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भदौरा कुसमी द्वारा गिरिराज शरण जायसवाल से शिष्यवृत्ती के स्क्रोल प्रमाणीकरण के लिए रू. 20000 रिश्वत की मांग की गई थी जिस पर शिकायतकर्ता द्वारा रू. 5000 पूर्व में ही दे दिया गया था। जिसके बाद शिकायतकर्ता द्वारा मामले की शिकायत लोकायुक्त  कार्यालय रीवा में जाकर शिकायत किया गया। मामले की जांच पड़ताल कार्यालय द्वारा किया गया, जांच के दौरान मामला सही जाए पाए जाने पर ट्रेप की कार्रवाई की गई है। ट्रेप की कार्रवाई 16 सदस्य टीम द्वारा की गई है। कार्रवाई के दौरान विद्यारिध निरीक्षण लोकायुक्त के साथ स्टॉप मौजूद रहे।

कमेंट करें
XiTdx