दैनिक भास्कर हिंदी: सीधी का जल संसाधन कार्यालय विदिशा होगा स्थानांतरित

August 13th, 2019

डिजिटल डेस्क, सीधी। सीधी स्थित जल संसाधन विभाग को बंद करने का आदेश जारी किया गया है। जारी आदेश के तहत विभाग को इसी माह 26 अगस्त के अंदर गंजबासौदा विदिशा के लिये स्थानांतरित कर दिया जायेगा। विभाग में कार्यरत सभी कर्मचारियों को भी गंजबासौदा में कार्यरत किया जायेगा। साथ ही विभाग की तीन सब डिविजन को गुलाब सागर महान नहर परियोजना में मर्ज कर दिया जायेगा।

आधा दर्जन कार्यालय हो चुके स्थानांतरित

सीधी जिले के 4 विभागों को स्थानांतरित करने के बाद अब जल संसाधन विभाग को भी दूसरे जिले में स्थानांतरित करने का आदेश जारी किया गया है। इसके पहले हाउसिंग बोर्ड, श्रम विभाग, रोजगार कार्यालय, टाउन एवं कंट्री प्लानिंग विभाग यहां से स्थानांतरित हो चुके हैं। जल संसाधन विभाग के प्रमुख अभियंता के आदेश क्रमांक 331400/5-2/2019-1434, दिनांक 7 अगस्त को जारी अपने आदेश में कहा है कि 26 अगस्त 2019 के अंदर सीधी से कार्यालय को शिफ्ट कर दिया जाय। साथ ही जल संसाधन क्रमांक-1 सीधी के सभी कार्यो को अब महान नहर कार्यालय सीधी को सौंपा जायेगा। मालुम रहे कि कार्यालय में 30 कर्मचारी वर्तमान में कार्यरत है, जिन्हे विदिशा कार्यालय में शिफ्ट किया जायेगा। सीधी जिले में वर्ष 1971 से जल संसाधन विभाग का यह कार्यालय संचालित रहा है। विभाग के  तीन सबडिवीजन  भी हैं  जिसमें  सीधी मझौली एवं कुसमी शामिल हैं। कार्यालय की उपयोगिता किसानों के लिए काफी अहम रही है। जिनके देखरेख में जिले के विभिन्न क्षेत्रों में किसानों के खेतों पानी पहुंचाने के लिए कई योजनाएं स्थापित की गई। जिनमें प्रमुख रूप से 30 डैम,10 मिनी एनीकट एवं दर्जनों तालाबों का निर्माण शामिल है। तत्संबंध में महत्वपूर्ण पहलू यह है कि सीधी जिले में वर्षो से संचालित कार्यालयों को एक-एक करके अन्य जिलों में शिफ्ट किया जा रहा है। फिर भी यहां के निर्वाचित जनप्रतिनिधि इस मामले में कोई पहल करने की बजाय पूरी तरह से मूक दर्शक बने हुए है। पूर्व भाजपा प्रदेश सरकार के दौरान ही कई सरकारी कार्यालयों को सीधी जिले से स्थानांतरित किया जा चुका है। जिसका खामियाजा यहां के लोगों को अभी तक भुगतना पड़ रहा है।

इनका कहना है

शासन की व्यवस्था है जहां कार्यालय को शिफ्ट करने का आदेश मिलेगा, वहां जाना पड़ेगा। इस संबंध में आदेश भी हो चुका है। एसपी पटेल, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन क्र-1 सीधी
 

खबरें और भी हैं...