comScore

बॉम्बे से पैदल आ रहे सीधी के श्रमिक की रास्ते में दर्दनाक मौत

बॉम्बे से पैदल आ रहे सीधी के श्रमिक की रास्ते में दर्दनाक मौत


डिजिटल डेस्क सीधी। मुंबई से करीब आधा सैकड़ा श्रमिकों के जत्थे के साथ पैदल आ रहे हटवा गांव निवासी श्रमिक की रास्ते में मौत हो गई है। करीब 150 किमी पैदल चलने के दौरान भोजन, पानी न मिल पाना मौत की वजह  बताई जा रही है। मृत श्रमिक का शव विशेष वाहन से लाया जा रहा है।
जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र से रीवा संभाग के करीब पचास से साठ लोगों का जत्था लॉक डाउन के चलते रोजगार के सारे अवसर ठप्प हो जाने के कारण पैदल ही रवाना हो गया था। श्रमिकों के जत्थे में सीधी जिले के भी श्रमिक शामिल रहे हैं। बताया जाता है कि हटवा गांव निवासी मोतीलाल साहू पिता वैद्यनाथ साहू 36 वर्ष की बाम्बे से करीब 150 किलोमीटर पैदल चलने और भोजन न मिलने पर जंगल में नाले का पानी पीने के बाद तबियत विगड़ गई और नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र महाराष्ट्र में पहुॅचने पर दम तोड़ दिया। बताया जा रहा है कि पुलिस के द्वारा की जाने वाली कार्यवाही से बचने के लिये इन सब के द्वारा जंगल पहाड़ का रास्ता अपनाया गया था। मृतक मोती लाल साहू के भाई रमेश साहू नें बताया कि श्रमिकों का जत्था गुरूवार 23 अप्रैल को पैदल बम्बई से जंगल पहाड़ के  रास्ते से होते हुए भॅूखे प्यासे 150 किलोमीटर की दूरी तय की गयी उसके बाद सभी की हालत बिगडऩे लगी। वहीं मोती लाल द्वारा नाले के पानी से प्यास बुझाने का प्रयास किया गया किन्तु पानी पीते ही हालात विगड़ गयी और नजदीकी स्वास्थय केन्द्र में मोतीलाल ने ऑखरी सॉसें ली। बताया गया कि इससे भी बड़ी समस्या तब उभर कर सामनें आयी जब मृतक का शव गृह पहुॅचाने हेतु काफी मशक्कत के बाद भी असफलता ही हॉथ लगी तब अंतिम निर्णय लेते हुए परिजनों द्वारा गृह ग्राम हटवा बहरी में चंदा इक_ा कर के संबधित निजी एम्बूलेंश संचालक के खाते में 35 हजार रुपये भेजे गये तब जा कर शव शुक्रवार को महाराष्ट्र से रवाना हुआ। जहॉ शनिवार की रात तक शव गृह ग्राम तक पहुॅचना बताया जा रहा है।
इनका कहना है -
मृतक मोती लाल साहू के दाह संस्कार के लिये त्वरित रूप से आर्थिक मदत की जा रही है, वहीं बताया गया कि 35 हजार रूपये चंदा कर के परिजनों द्वारा शव महाराष्ट्रा से सीधी लाया जा रहा। इस विषय पर हम सब मिलकर अपने जेब से आर्थिक सहयोग करने का प्रयास कर रहे हैं वहीं पीडि़तों के साथ हर पल जिला प्रशासन पूरी तरह से खड़ा हुआ है।
अशोक तिवारी, सीईओ सिहावल

कमेंट करें
2y8Ri