comScore

परेई में रेत को लेकर दो गुटों में संघर्ष, पुलिस बनी रही अनजान

परेई में रेत को लेकर दो गुटों में संघर्ष, पुलिस बनी रही अनजान

यूपी-एमपी की फर्जी ईटीपी से रेत जा रही लखनऊ, कानपुर

जिटल डेस्क छतरपुर । जिले में रेत माफियाओं का दबदबा सिर चढ़कर बोल रहा है। पिछली रात परेई में दो गुटों में जमकर गैंगवार हुआ, चूंकि गौरिहार थाना पुलिस रेत माफियाओं को संरक्षण दिए हुए है। इसके चलते किसी भी गुट पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। ऐसे में एक गुट ने दूसरे के खिलाफ बांदा जिले के मटौंध थाने में शिकायती आवेदन दिया है।
पुलिस की कार्यशैली पर उठे सवाल 
 
परेई में बीती रात करीब दो घंटे तक जमकर गैंगवार हुआ, लेकिन पुलिस मौके पर नहीं पहुंची। गौरिहार पुलिस का कहना है कि दोनों पक्षों में राजीनामा हो गया है। इस कारण मामले में कार्रवाई नहीं की गई है। उधर, बांके बिहारी कंपनी के कर्मचारियों ने मटौंध थाने में शिकायती आवेदन दिया है।
विवाद रेत का नहीं, ईटीपी का है 
 सूत्रों के अनुसार जिन दो लैपटॉप के लूटने की बात कही जा रही है, हकीकत में इससे फर्जी ईटीपी जारी होते थे। इन फर्जी ईटीपी को कर्मचारी रेत कारोबारियों को बेचते हैं। इधर, राजकुमार पटेल बांके बिहारी कंपनी पर दबाव बना रहा है कि उसे यह ईटीपी बगैर रुपए या कम रुपए में दी जाए, इसी के चलते विवाद हुआ है।
वर्चस्व को लेकर भिड़े रेत माफिया  
परेई रेत खदान पर शुक्रवार-शनिवार की दरम्यानी रात करीब 2.00 बजे जमकर विवाद हुआ। परेई में खसरा नम्बर-285/5 पर 0.809 हेक्टेयर में बांके बिहारी कंपनी को रेत भंडारण की स्वीकृति शासन ने दी है। यह कंपनी उत्तरप्रदेश के एक नेता की है।  इसी के पास कांग्रेस जिला महामंत्री राजकुमार पटेल भी रेत को डंप लगाए हैं। बांके बिहारी कंपनी के कर्मचारियों ने मटौंध मार्ग को अवैध ढंग से काट दिया। इससे रात में जब राजकुमार पटेल के अवैध डंप से रेत लेकर ट्रक निकले तो यहां विवाद होने लगा। इस पर राजकुमार पटेल समर्थित अपने दो दर्जन लोगों के साथ इनमें रजा खान, नंदू पटेल आदि शामिल थे, मौके पर पहुंचे ओर बांके बिहारी कंपनी के कर्मचारियों के साथ मारपीट कर उनके ऑफिस में जमकर तोडफ़ोड़ की। कर्मचारियों ने बताया कि इस दौरान वे 40 हजार रुपए नकद, गैस सिलेंडर, दो लैपटॉप भी छीनकर ले गए।
 

कमेंट करें
NqGHB