दैनिक भास्कर हिंदी: महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. प्रियव्रत शुक्ल ने इस्तीफा दिया

January 9th, 2019

डिजिटल डेस्क, छतरपुर। महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. प्रियव्रत शुक्ल ने बुधवार को इस्तीफा दे दिया। राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को इस्तीफा भेजा गया, जिसे राज्यपाल ने तुरंत स्वीकार कर लिया। नए कुलपति की नियुक्ति तक के लिए अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय रीवा के कुलपति को अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है।

चल रहा कयासों का दौर
गौरतलब है कि प्रदेश में सरकार बदलने के साथ ही संवैधानिक पदों के साथ बड़े संस्थानों के शीर्ष पदों पर बैठे लोगों द्वारा इस्तीफा दिया जा रहा है, किंतु कुलपति के पद के साथ ऐसा कुछ भी नहीं होने के बावजूद इस्तीफा दे दिए जाने से कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। ज्ञात हो कि प्रोफेसर प्रियव्रत शुक्ल रानीदुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर के दर्शनशास्त्र विभाग में प्रोफेसर हैं। उनका यह पद बना रहेगा।

दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर हैं
बुधवार अचानक घटे घटनाक्रम के चलते महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. प्रियव्रत शुक्ल ने फैक्स के माध्यम से राज्यपाल आनंदी बेन पटेल को इस्तीफा भेजा। दोपहर 12 बजे भेजे गए इस इस्तीफा को राज्यपाल ने दोपहर 2 बजे स्वीकार कर करते हुए डॉ. शुक्ल को पदमुक्त कर दिया। महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय के कुलपति का अस्थाई दायित्व अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय रीवा के कुलपति केएन सिंह यादव को सौंपा गया है। वे अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के अतिरिक्त महाराजा छत्रसाल बुंदेलखंड विश्वविद्यालय का भी प्रभार संभालेंगे। डॉ. प्रियव्रत शुक्ल रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय जबलपुर में दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर हैं। पदमुक्त होने के बाद वे रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय में बतौर प्रोफेसर ज्वाइन करेंगे।

स्टूडेंट कैडेट योजना
स्टूडेंट के डिट योजना के तहत आज बकस्वाहा एक्सीलेंस के बच्चों को मध्य प्रदेश विद्युत मंडल के स्टेशन का भ्रमण कराया गया, यहां पर छात्रों को विद्युत सप्लाई एवं वहां के स्टेशन की जानकारी दी गई। इसके पहले सभी छात्रों को पुलिस कैडेट योजना के आई कार्ड वितरित किए गए। इस अवसर पर विद्युत सब स्टेशन के सभी कर्मचारी ऑपरेटर लाइनमैन उपस्थित रहे विशेष रूप से वहां के ऑपरेटर सुनील कुमार ने छात्रों को सभी जानकारियां प्रदान की। स्टूडेंट पुलिस कैडेट प्रोग्राम के नोडल देवी सिंह राजपूत द्वारा बताया गया कि यह भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही है विशेष योजना है, जिसके तहत छात्रों में राष्ट्र प्रेम एवं सामाजिक चेतना की जानकारी प्रदान करना एवं छात्रों के अंदर नैतिक शिक्षा आदि का विकास करना है।

 

खबरें और भी हैं...