comScore

दशहरा: राम-रावण की यह बातें बदल सकती है आपका जीवन 

दशहरा: राम-रावण की यह बातें बदल सकती है आपका जीवन 

हाईलाइट

  • राम और रावण की कुछ ऐसी बातें, जिन्हें अपनाकर आप अपने जीवन को बैहतर बना सकते हैं

डिजिटल डेस्क। दशहरे के पावन मौके पर हर साल बुराई के प्रतीक रावण का दहन किया जाता है और अच्छाई के प्रतीक श्री राम की लंका पर विजय का जश्न मनाया जाता है। रामायाण महाकाव्य में भगवान श्रीराम और रावण के बीच कई ऐसे कई प्रसंग हैं। जिन्हें मानव जीवन के लिए हितकारी माना जाता है। वैसे तो रामायाण में हर प्रात्र के जीवन से प्रेरणा मिलती है, लेकिन भगवान श्रीराम और राक्षम योनी में जन्मे प्रखर पंडित रावण के जीवन से ऐसी कई बातें सीखने को मिलती हैं। जिन्हें लागू कर आप बेहतर, सफल और सरल तरीके से जीवन व्यतीत कर सकते हैं। आइए हम आपको बताते हैं राम और रावण की कुछ ऐसी बातें, जिन्हें अपनाकर आप अपने जीवन को बैहतर बना सकते हैं। 

श्रीराम की जीवन में ग्रहण करने योग्य कुछ बातें

1. जीवन में मर्यादित रहना।
2 . लोगों के नामों को याद रखना और उन्हें, उन्हीं नाम से संबोधित करना।
3 . दूसरों की बातों को ध्यान और धीरज से सुनना।
4 . लोगों के प्रति सच्ची निष्ठा रखना।
5 . दूसरे व्यक्तियों को सम्मान देना।
6 . किसी को अपने विचार मनवाने के लिए तर्क और विवाद का सहारा नहीं लेना।
7 . उच्च आदर्श व सिद्धांत का पालन करने में हर कठिनाई को सहन करने के लिए तैयार रहना।
8 . दूसरे के विचारों और भावनाओं के प्रति सच्ची सहानुभूति रखना।
9 . दूसरे की दृष्टि से घटनाओं या वस्तुओं को देखने का प्रयास करना।
10.अपनी त्रुटि(गलती) को शीघ्र स्वीकार कर लेना।

रावण की जीवन में ग्रहण करने योग्य कुछ बातें

1. अपने सारथी, दरबान, खानसामे और भाई से दुश्मनी मोल मत लीजिए। वे कभी भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।
2. खुद को हमेशा विजेता मानने की गलती मत कीजिए, भले ही हर बार तुम्हारी जीत हो।
3. हमेशा उस मंत्री या साथी पर भरोसा कीजिए जो तुम्हारी आलोचना करती हो।
4. अपने दुश्मन को कभी कमजोर या छोटा म त समझिए, जैसा कि हनुमान के मामले में भूल हूई।
5. यह गुमान कभी मत पालिए कि आप किस्मत को हरा सकते हैं, भाग्य में जो लिखा होगा उसे तो भोगना ही पड़ेगा। 
6. ईश्वर से प्रेम कीजिए या नफरत, लेकिन जो भी कीजिए , पूरी मजबूती और समर्पण के साथ।
7. जो राजा जीतना चाहता है, उसे लालच से दूर रहना सीखना होगा, वर्ना जीत मुमकिन नहीं। 
8. राजा को बिना टाल-मटोल किए दूसरों की भलाई करने के लिए मिलने वाले छोटे से छोटे मौके को हाथ से नहीं निकलने देना चाहिए।

कमेंट करें
lYdjK