comScore

मप्र में कोरोना मरीजों की सुधरती सेहत से सरकार को राहत

June 02nd, 2020 16:31 IST
 मप्र में कोरोना मरीजों की सुधरती सेहत से सरकार को राहत

हाईलाइट

  • मप्र में कोरोना मरीजों की सुधरती सेहत से सरकार को राहत

भोपाल, 2 जून (आईएएनएस)। मध्य प्रदेश में कोरोना मरीजों की सेहत में आ रहे सुधार से राज्य सरकार राहत की सांस ले रही है। राज्य में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट 60 फीसदी से ऊपर पहुंच गया है। सरकार उम्मीद जता रही है कि आने वाले दिनों में हालात और भी बेहतर होंगे।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, राज्य के मालवा-निमांड़ अंचल में कोरोना का संक्रमण ज्यादा है। वहीं अन्य हिस्सों में राजधानी भोपाल व जबलपुर ही ऐसे स्थान हैं, जहां मरीजों का आंकड़ा बढ़ा हुआ है। मरीजों की बढ़ती संख्या और मौतों के आंकड़ों के बीच कुछ सुखद खबरें भी आ रही हैं। स्वस्थ हो रहे मरीजों का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ रहा है।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि सोमवार देर शाम तक जो आंकड़े आए हैं, वे बताते हैं कि राज्य में कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट 60.5 प्रतिशत हो गया है। राज्य में अब तक 8283 मरीज पाए गए हैं, जिनमें से 5003 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, वहीं एक्टिव मरीजों की संख्या 2922 है।

कोरोना के इंदौर में सबसे ज्यादा मरीज पाए गए हैं। यहां अबतक कुल 3539 मरीज मिले, जिसमें से 1990 मरीज ठीक हो चुके हैं। अब सिर्फ 1414 एक्टिव मरीज ही बचे हैं। वहीं भोपाल में 1511 मरीजों में से 963 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, और अब सिर्फ 489 मरीज ही सक्रिय बचे हैं।

राज्य में कोरोना को रोकने के लिए पूरे प्रदेश में 1197 फीवर क्लीनिक संचालित हैं, जिसमें बुखार तथा सर्दी-खांसी के रोगियों का उपचार किया जा रहा है। जिनमें कोरोना के लक्षण पाए जा रहे हैं, उनके नमूने लिए जा रहे हैं। इसके अलावा उपचार हेतु आयुष्मान भारत निरामयम के अंतर्गत 26 जिलो में 59 नए चिकित्सालयों को जोड़ा गया है।

स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मिश्रा का कहना है, भोपाल, इंदौर और उज्जैन के अलावा राज्य के अधिकांश जिले ऐसे हैं, जहां एक या दो मरीज ही आ रहे हैं। जहां तक मरीजों की मौत की बात है तो जिन लोगों की मौत हो रही है, उनमें से अधिकांश अन्य बीमारियों से पीड़ित रहे हैं। मौत कोई भी हो दुखदायी है। कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है, सावधानी बरतनी होगी।

कमेंट करें
jzxW4
NEXT STORY

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भारत के घरेलु वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम ने आज घोषणा की है कि इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने देश में सभी के लिए स्टॉकब्रोकिंग की सुविधा शुरू कर दी है। कंपनी का लक्ष्य इस वित्त वर्ष में 10 लाख से अधिक निवेशकों को जोड़ना है, जिसमें अधिकतर छोटे शहरों और कस्बों से आने वाले फर्स्ट टाइम यूजर्स होंगे। इस प्रयास का उद्देश्य उत्पाद के आसान उपयोग, कम मूल्य निर्धारण (डिलीवरी ऑर्डर पर जीरो ब्रोकरेज, इंट्राडे के लिए 10 रुपये) और डिजिटल केवाईसी के साथ पेपरलेस खाता खोलने के साथ निवेश को प्रोत्साहित करना तथा अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचना है। कंपनी भारत में सबसे व्यापक ऑनलाइन वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनने के लिए प्रयासरत है, जो वित्तीय समावेशन के लक्ष्य के तहत आम लोगों तक आसानी से पहुंच सके।

पेटीएम मनी को अपने शुरुआती प्रयास में ही लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली और उसने 2.2 लाख से अधिक निवेशकों को अपने साथ जोड़ लिया। इनमें से, 65% उपयोगकर्ता 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में हैं, जो दर्शाता है कि नई पीढ़ी अपनी वेल्थ पोर्टफोलियो का निर्माण कर रही है। टियर-1 शहरों जैसे मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, जयपुर और अहमदाबाद में इस प्लेटफार्म को बड़े स्तर पर अपनाया गया है। ठाणे, गुंटूर, बर्धमान, कृष्णा, और आगरा जैसे छोटे शहरों में भी लोगों का भारी झुकाव देखने को मिला है। यह सेवा सुपर-फास्ट लोडिंग स्टॉक चार्ट्स, ट्रैक मार्केट मूवर्स एंड कंपनी फंडामेंटल्स सुविधाओं के साथ अब आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है। पेटीएम मनी ऐप शेयरों पर निवेश, व्यापार और सर्च के लिए प्राइस अलर्ट और एसआईपी सेट करने के लिए आसान इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इस अवसर पर पेटीएम मनी के सीईओ, वरुण श्रीधर ने कहा, "हमारा उद्देश्य वेल्थ मैनेजमेंट सेवाओं को आबादी के बड़े हिस्से तक पहुंचाना है, जो आत्मानिर्भर भारत के लक्ष्य में योगदान करेगी। हमारा मानना है कि यह मिलेनियल और नए निवेशकों को उनके वेल्थ पोर्टफोलियो के निर्माण में सक्षम बनाने का समय है। प्रौद्योगिकी पर आधारित हमारे समाधान शेयर में निवेश को सरल और आसान बनाता है। हम वर्तमान उत्पादों को चुनौती देते रहेंगे और भारत के सर्वश्रेष्ठ उत्पाद का निर्माण करते रहेंगे। हम पेटीएम मनी को सभी भारतीय के लिए एक व्यापक वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। "

इतने कम समय में पेटीएम मनी पर स्टॉक ट्रेडिंग को व्यापक रूप से अपनाया जाना काफी महत्व रखता है। यह हर भारतीय के लिए डिजिटल निवेश को आसान बनाने के कंपनी के प्रयासों की सराहना को भी दर्शाता है। शेयरों में आसान निवेश के साथ, प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ता को बाजार के बारे में शोध करने, मार्केट मूवर्स का पता लगाने, अनुकूल वॉचलिस्ट तैयार करने और 50 से अधिक शेयरों के लिए प्राइस अलर्ट सेट करने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा, उपयोगकर्ता स्टॉक के लिए साप्ताहिक / मासिक एसआईपी सेट कर सकते हैं, और स्टॉक में निवेश को आॅटोमेट कर सकते हैं। बिल्ट-इन ब्रोकरेज कैलकुलेटर के साथ, निवेशक लेनदेन शुल्क का पता लगा सकते हैं और शेयरों को लाभ पर बेचने के लिए ब्रेक-इवेन प्राइस जान सकते हैं। इसके अलावा, स्टॉक ट्रेडिंग के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए एडवांस्ड चार्ट और अन्य विकल्प जैसे कवर चार्ट तथा ब्रैकेट ऑर्डर भी जोड़े गए हैं। इन सुविधाओं के अलावा बैंक-स्तरीय सुरक्षा के साथ निवेशकों के व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखते हुए अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।


पेटीएम मनी के बारे में
पेटीएम मनी वन97 कम्युनिकेशंस की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। वन97 कम्युनिकेशंस भारत की घरेलू वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम का स्वामित्व भी रखता है। यह देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन इंवेस्टमेंट प्लेटफार्म है, और अब इसने उपयोगकर्ताओं के लिए डायरेक्ट म्यूचुअल फंड्स और एनपीएस के अपने वर्तमान आॅफर में स्टॉक्स को भी जोड़ दिया है। पेटीएम मनी का लक्ष्य एक पूर्ण-स्टैक इंवेस्टमेंट और वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनना और लाखों भारतीयों तक धन सृजन के अवसरों को पहुंचाना है। बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से संचालित इस कंपनी की टीम में 300 से अधिक सदस्य हैं।