दैनिक भास्कर हिंदी: बांग्लादेश में कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित इलाकों में लॉकडाउन लगेगा : हसीना

June 14th, 2020

हाईलाइट

  • बांग्लादेश में कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित इलाकों में लॉकडाउन लगेगा : हसीना

ढाका, 14 जून (आईएएनएस)। बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने देश में कोरोना वायरस के और अधिक प्रसार को रोकने के लिए इससे सर्वाधिक प्रबावित इलाकों को लॉकडाउन के तहत लाने का फैसला किया है।

उन्होंने सांसद मोहम्मद नसीम और धार्मिक मामलों के राज्य मंत्री एडवोकेट शेख मुहम्मद अब्दुल्ला को श्रद्धांजलि अर्पित की जिनकी शनिवार को मृत्यु हो गई। हसीना ने उम्मीद जताई कि उनकी सरकार देश के संस्थापक शेख मुजीबुररहमान द्वारा देखे गए बांग्लादेश को गरीबी और भूख से मुक्त करने के सपने को पूरा करेगी और इस राह में आने वाली कोविड-19 सहित तमाम बाधाओं से पार पाएगी।

बांग्लादेश में कोरोना वायरस तेजी से बढ़ा है। इसकी चपेट में आने से 32 और लोगों की मौत हो गई है और देश में इस महामारी से मरने वालों की संख्या 1,171 तक पहुंच गई है। पिछले 24 घंटों में इस वायरस के 3,141 नए मामलों का पता चलने के बाद संक्रमित लोगों की कुल संख्या 87,520 हो गई है।

हसीना ने आंसुओं से भरी आंखों के साथ कहा, किसी भी परिवार के सदस्य को खोना कितना दर्दनाक होता है। नसीम भाई एक राजनीतिक नेता के रूप में बहुत कुशल थे। 1986 में देश लौटने के बाद मैं शहीदों के परिजनों के साथ अवामी लीग को फिर से संगठित करने की कोशिश कर रही थी और वह हमेशा मेरे साथ बने रहे।

सत्तारूढ़ अवामी लीग की अध्यक्ष शेख हसीना ने कहा, यह एक युद्ध है (हमारे लिए)। ऐसे समय में, हमने पार्टी के दो दिग्गजों (मोहम्मद नसीम और शेख मुहम्मद अब्दुल्ला) को खो दिया है, जिन्होंने प्रत्येक लोकतांत्रिक आंदोलन और संघर्ष में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उन्हें खोना बेहद दुख की बात है। हमने दोनों को एक दिन में खो दिया।

इस आशय की रिपोर्ट हैं कि अब्दुल्ला की मौत कोरोना वायरस के चपेट में आने से हुई है।

यह उल्लेख करते हुए कि कोविड-19 महामारी से उत्पन्न भय भयानक सीमा तक पहुंच गया है, उन्होंने कहा, हम अफरातफरी के कारण भुखमरी से लोगों की मृत्यु की अनुमति नहीं दे सकते। हमें उनके जीवन और आजीविका को जारी रखने के लिए उपाय करने होंगे।

हसीना ने कहा, धनी, निर्धन हथियारों से समृद्ध देश, प्रत्येक अब कोरोनोवायरस के कारण एक जैसी ही स्थिति का सामना कर रहे हैं, जैसी आज से पहले कभी नहीं देखी गई।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोविड-19 का हमला ऐसे समय में हुआ जब देश तेजी से प्रगति कर रहा था, अवामी लीग सरकार गरीबी दर को 40 फीसदी से घटाकर 20 फीसदी करने में सक्षम रही थी और जीडीपी बढ़ रही थी।