दैनिक भास्कर हिंदी: ड्रोन की उड़ान पर रोक, दिल्ली पुलिस का बड़ा फैसला

July 16th, 2021

हाईलाइट

  • दिल्ली में 16 अगस्त तक ड्रोन/यूएवी, माइक्रोलाइट एयरक्राफ्ट, हॉट एयर बैलून उड़ाने पर रोक
  • जम्मू में भारतीय एयरफोर्स बेस पर हाल ही में हुए ड्रोन हमले के बाद फैसला

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को एक आदेश जारी कर राष्ट्रीय राजधानी में 16 अगस्त तक ड्रोन/यूएवी, माइक्रोलाइट एयरक्राफ्ट, हॉट एयर बैलून आदि उड़ाने पर रोक लगा दी। जम्मू में भारतीय एयरफोर्स बेस पर हाल ही में हुए ड्रोन हमले और उसके बाद अगले कुछ दिनों में कई ड्रोनों को स्पॉट किए जाने के बाद यह फैसला लिया गया है।

दिल्ली के पुलिस आयुक्त बालाजी श्रीवास्तव ने एक आधिकारिक बयान में कहा, कुछ क्रमिनिल, एंटी-सोशल एलिमेंट या आतंकवादी पैरा-ग्लाइडर, पैरा-मोटर्स, हैंग ग्लाइडर, यूएवीएस, यूएएसएस, माइक्रोलाइट एयरक्राफ्ट, रिमोट से चलने वाले एयरक्राफ्ट, हॉट एयर बलून, स्मॉल साइज्ड पावर्ड एयरक्राफ्ट, क्वाडकॉप्टर या यहां तक ​​कि एयरक्राफ्ट से पैरा-जंपिंग आदि जैसे सब-कंवेंशनल एरियल प्लेटफार्मों के उपयोग से आम जनता, गणमान्य व्यक्तियों और महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों की सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं। कोई भी व्यक्ति स्वतंत्रता दिवस से पहले दिल्ली के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीटी) के आकाश में किसी भी वस्तु को उड़ाते हुए पाया गया तो उस पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जाएगी।

दिल्ली पुलिस ने एक बयान में कहा, चूंकि नोटिस सभी संबंधितों को व्यक्तिगत रूप से तामील नहीं किया जा सकता है, इसलिए आदेश एक पक्षीय रूप से पारित किया जाता है। इसे प्रेस के माध्यम से जनता की जानकारी के लिए प्रकाशित किया जाएगा और सभी डीसीएसपी/एडिशनल डीसीएसपी/एसीएसपी, तहसील कार्यालय, सभी पुलिस स्टेशन और एनडीएमसी/एमसीडी/पीडब्ल्यूडी/डीडीए/दिल्ली कैंट बोर्ड के कार्यालयों के नोटिस बोर्ड पर प्रतियां चिपका दी जाएंगी। यह आदेश 16 जुलाई से प्रभावी होगा और 32 दिनों की अवधि के लिए 16 अगस्त (दोनों दिन सम्मिलित) तक लागू रहेगा जब तक कि पहले वापस नहीं लिया जाता।

इस बीच, दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को राजस्थान के पोखरण से एक कथित ISI एजेंट को गिरफ्तार किया। वह कथित तौर पर भारतीय रक्षा प्रतिष्ठानों की जासूसी कर रहा था। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने उसके कब्जे से सेना के इलाकों के गोपनीय दस्तावेज और नक्शे बरामद किए हैं। आरोपी ने कहा है कि आगरा में तैनात सेना के जवान परमजीत कौर ने उसे दस्तावेज दिए थे।