नई दिल्ली: पीएम ने हीट वेव प्रबंधन, मानसून की तैयारियों की समीक्षा के लिए उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की

May 6th, 2022

हाईलाइट

  • बाढ़ प्रभावित राज्यों में सुरक्षा बलों की तैनाती

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को अधिकारियों को हीट वेव और आग की घटनाओं के कारण होने वाली मौतों से बचने के लिए सभी उपाय करने और गर्मी की लहर प्रबंधन और मानसून की तैयारियों पर समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए तैयारी की योजना बनाने का निर्देश दिया।

बैठक के दौरान, उन्हें भारत मौसम विज्ञान विभाग और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा देश भर में मार्च-मई में उच्च तापमान के बने रहने के बारे में जानकारी दी गई।

इस बैठक के दौरान राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को राज्य, जिला और शहर के स्तर पर मानक प्रतिक्रिया के रूप में हीट एक्शन प्लान तैयार करने की सलाह दी गई है। साथ ही दक्षिण-पश्चिम मानसून की तैयारियों के संबंध में, सभी राज्यों को बाढ़ तैयारी योजना तैयार करने और उचित तैयारी के उपाय करने की सलाह दी गई है। उन्होंने निर्देश दिया कि एनडीआरएफ बाढ़ प्रभावित राज्यों में अपनी तैनाती योजना बनाएं और समुदायों को संवेदनशील बनाने के लिए सोशल मीडिया का सक्रिय रूप से उपयोग करें।

उन्होंने जोर देकर कहा कि बढ़ते तापमान को देखते हुए नियमित अस्पताल अग्नि सुरक्षा की ऑडिट किए जाने की जरूरत है। प्रधानमंत्री ने आग के खतरों के खिलाफ देश में विविध वन पारिस्थितिकी प्रणालियों में जंगलों की भेद्यता को काफी हद तक कम करने, संभावित आग का समय पर पता लगाने और आग से लड़ने के लिए वन कर्मियों और संस्थानों की क्षमताओं को बढ़ाने और तेजी से काम करने की आवश्यकता के बारे में बात की। पीएम मोदी ने यह भी निर्देश दिया कि आगामी मानसून को देखते हुए, पेयजल की गुणवत्ता की निगरानी की व्यवस्था सुनिश्चित करने की आवश्यकता है, ताकि प्रदूषण और जल जनित बीमारियों के प्रसार से बचा जा सके।

बयान में कहा गया है कि बैठक में गर्मी की लहरों और आगामी मानसून के मद्देनजर किसी भी घटना के लिए सभी प्रणालियों की तैयारी सुनिश्चित करने के लिए केंद्र और राज्य एजेंसियों के बीच प्रभावी समन्वय की आवश्यकता के बारे में चर्चा की गई। बैठक में पीएम के प्रधान सचिव, पीएम के सलाहकार, कैबिनेट सचिव, गृह, स्वास्थ्य, जल शक्ति मंत्री, एनडीएमए सदस्य, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) और भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के डीजी और एडीजी एनडीआरएफ ने भाग लिया।

 

 

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.