comScore

दुष्कर्म के आरोपी ने अस्पताल के बाथरूम में लगाई फांसी

दुष्कर्म के आरोपी ने अस्पताल के बाथरूम में लगाई फांसी

डिजिटल डेस्क, छतरपुर/ बड़ामलहरा । नगर के सरकारी अस्पताल में दुष्कर्म के आरोपी ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। आरोपी नाबालिग से दुष्कर्म के आरोप में यहां मेडिकल परीक्षण के लिए लाया गया था। उसने बाथरूम में वेंटीलेशन पर तौलिया लगाकर आत्महत्या कर ली। एडीशनल एसपी और पुलिस फोर्स मौके पर पहुंचकर घटना की जांच कर रही है। 

पुलिस ने बताया कि 22 वर्षीय आरोपी युवक वीरेंद्र लोधी पिता प्रेमलाल लोधी टीकमगढ़ जिले के बुढ़ेरा थाना अंतर्गत बसायनखेरा गांव का निवासी है। एक नाबालिग किशोरी को बहला-फुसलाकर भगा ले जाने के आरोप में उस पर किशोरी के परिजनों ने दुष्कर्म का केस भगवां थाने में दर्ज कराया है। किशोरी गर्भवती है। भगवां थाना पुलिस आरोपी वीरेंद्र को गिरफ्तार करने के बाद शुक्रवार की शाम मेडिकल परीक्षण के लिए बड़ामलहरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर आई। आरोपी युवक को जब मेडिकल सेंपल देने के लिए बाथरूम में भेजा गया। उसी समय उसने बाथरूम के वेंटीलेटर में तौलिए से लटककर फांसी लगा ली। काफी देर तक जब युवक बाथरूम से नहीं निकला तो पुलिसकर्मी बाथरूम के गेट को तोड़कर अंदर गए। तब तक आरोपी की मौत हो चुकी थी।

क्या था मामला

दरअसल आरोपी युवक छतरपुर जिले के भगवां थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली 16 वर्षीय नाबालिग किशोरी को बहला-फुसलाकर अपने साथ भगा ले गया था। किशोरी के परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी युवक के खिलाफ धारा 376, 363, 366 और पॉस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था। भगवां पुलिस ने गुरुवार को आरोपी युवक के कब्जे से किशोरी को लिया और परिजनों के सुपुर्द कर दिया। वहीं आरोपी को भी हिरासत में लिया। हिरासत में लेने के बाद शुक्रवार को आरोपी युवक को पुलिस अभिरक्षा में चिकित्सीय परीक्षण के लिए अस्पताल लेकर आई, उसी समय उसने फांसी लगा ली। बताया जा रहा है कि आरोपी मृतक पहले से शादीशुदा था। इसके दो बच्चे भी हैं।

बाल्टी के सहारे पहुंचा वेंटीलेटर तक

पुलिस सूत्रों ने बताया कि आरोपी युवक जब बाथरूम में सीमंस निकालने के लिए गया। तो उसने अंदर से बाथरुम का गेट बंद कर लिया। और बाथरुम में रखी पानी भरने की बाल्टी को उलटाकर उस पर चढ़कर वह वेंटीलेटर तक पहुंचा और उसमें तौलिए फंसाकर आत्महत्या कर ली। घटना के बाद पुलिस ने उसे नीचे उतारकर जांच की तो मौत हो चुकी थी। घटना के बाद शव को बाथरुम से निकालने के बाद बाथरुम को सील कर दिया गया है।

इनका कहना है 

दुराचार के आरोपी वीरेंद्र लोधी को पुलिस अभिरक्षा में मेडिकल परीक्षण के लिए अस्पताल लाया गया था। जहां पर उसने बाथरुम में फांसी लगाली। आरोपी युवक ने यह कदम क्यो उठाया इसकी जांच की जाएगी। पूरे मामले की न्यायिक जांच भी होगी। - जयराज कुबेर, एएसपी
 

कमेंट करें
RcBlK