comScore

पैकेट बंद फ्रूट जूस के सेवन से पहले जान लें इसके नुकसान

पैकेट बंद फ्रूट जूस के सेवन से पहले जान लें इसके नुकसान

डिजिटल डेस्क। फल खाना किसी भी मौसम में फायदा ही करता है, न कि सिर्फ फलों का सेवन बल्कि फलों का जूस पीना भी सेहत के लिए काफी लाभकारी होता है, लेकिन आज के दौर में युवा पीढ़ी हर चीज पैक्ड खाना पसंद करती है। वे नाश्ता भी पैक्ड यानी डिब्बा बंद करती है। इसी क्रम में आजकल वे पैकेटबंद जूस पीने के शौकीन भी नजर आ रहे हैं। हालांकि वे इसका तर्क देते हैं कि इससे उन्हें कई तरह के शारीरिक लाभ होते हैं, जबकि ऐसा कतई नहीं है। दरअसल पैकेट बंद जूस, जितने फायदे होने का दावा करती है, उतने फायदे उससे हमें मिलते नहीं। पैक्ड फ्रूट जूस बच्चों को बीमार बना सकते हैं। इन पैक्ड फ्रूट जूस में न तो फाइबर होता है और न ही कोई प्राकृतिक पोषक तत्व। आज हम आपको बता रहे हैं पैक्ड फ्रूट से होने वाले नुकसान के बारे में।  

डायबिटीज का खतरा
पैकेटबंद जूस में आर्टिफिशियल कलर का भी इस्तेमाल होता है। यह कहने की जरूरत नहीं है कि आर्टिफिशियल कलर हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं। हालांकि आर्टिफिशियल कलरों के इस्तेमाल से तमाम कंपनियां इसे फल विशेष के रंग में ढालने की कोशिश करती है, लेकिन इसके सेवन से शरीर को नुकसान होता है।

ब्रेन के लिए नुकसानदायक
मार्केट में बिकने वाले पैक्ड और फ्लेवर्ड फ्रूट जूस में कैडमियम, कार्बनिक, आर्सेनिक और मरकरी या लेड पाया जाता है, जो बच्‍चों के स्‍वास्‍थ्‍य पर बहुत ही बुरा असर डालता है। पैक्ड जूस में पाए जाने वाले मेटल बच्‍चों के नवर्स सिस्‍टम पर बुरा प्रभाव डालते हैं, जिससे बच्‍चे के विकासशील ब्रेन को भी नुकसान पहुंचता है। ट्रेटा पैक में बंद जूस में फलों का हिस्सा सिर्फ 25 फीसदी ही होता है।

पेट की समस्या
पैकेट बंद जूस पीने से गैस की समस्या, डायरिया, पेट में दर्द जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

कमेंट करें
O5V92