comScore

भारत में 1.5 करोड़ एंड्रॉयड फोन पर मैलवेयर अटैक, जानें इसके नुकसान

भारत में 1.5 करोड़ एंड्रॉयड फोन पर मैलवेयर अटैक, जानें इसके नुकसान

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। स्मार्टफोन में एंड्रॉयड काफी पॉपलुर है और दुनियाभर में इसके सबसे अधिक यूजर्स देखे जाते हैं। फिलहाल एंड्रॉयड फोन यूजर्स के लिए एक बुरी खबर है, दरअसल साइबर सिक्योरिटी से जुड़ा एक गंभीर मामला सामने आया है। रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के 2.5 करोड़ एंड्रॉयड फोन ‘एजेंट स्मिथ’ नाम के एक वायरस की चपेट में आ गए हैं। इसमें देश के 1.5 करोड़ ऐंड्रॉयड डिवाइस बिना यूजर्स की जानकारी मैलवेयर अटैक का शिकार हुए हैं। 

ऐसे करता है अटैक
साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र में काम करने वाली कंपनी चेक प्वाइंट रिसर्च ने दावा किया है कि एक नए किस्म के मैलवेयर ने बड़ी चालाकी से दुनियाभर के 2.5 करोड़ डिवाइसेज को अपना शिकार बनाया है, जिसमें 1.5 करोड़ मोबाइल डिवाइस भारत में हैं। यह वायरस बिना फोन यूजर्स की जानकारी में आए उसमें इंस्टॉल सभी एप्लिकेशन को हटाकर उनका संक्रमित संस्करण अपलोड कर देता है। 

यहां हो सकता है उपयोग
चेक पॉइंट ने एक बयान जारी कर कहा, Agent Smith नाम का यह मैलवेयर डिवाइस को बड़ी आसानी से पूरा ऐक्सेस कर लेता है। इसके जरिए यह यूजर्स को फाइनैंशल प्रॉफिट वाले विज्ञापन दिखाता है जिसका इस्तेमाल यूजर्स के बैंकिंग डीटेल्स को चुराने के लिए किया जा सकता है। इस मैलवेयर के काम करने का तरीका पहले आए मैलवेयर कैंपेन जैसे Gooligan, Hummingbad और CopyCat से काफी मिलता-जुलता है। 

संक्रमित एप हटाए
हालांकि कंपनी ने अपनी रिपोर्ट में इस नई तरह के वायरस की खोज करने का दावा करते हुए कहा कि उसने गूगल के साथ इस वायरस से निपटने के लिए काम किया है। कंपनी ने यह भी कहा कि इस रिपोर्ट के पेश किए जाने के समय तक गूगल प्ले स्टोर से सभी संक्रमित एप हटा दिए गए हैं।

एप्लिकेशन डाउनलोड ना करने की सलाह
कंपनी के मोबाइल थ्रेट डिटेक्शन रिसर्च विंग के प्रमुख जोनाथन शिमॉनविच ने कहा कि इस वायरस ने मुख्य तौर पर हिंदी, अरबी, रूसी, इंडोनेशियाई भाषा का उपयोग करने वालों के मोबाइल फोन को निशाना बनाया है। इसके चलते ही इस वायरस से प्रभावित होने वालों में भारतीयों की संख्या सबसे ज्यादा है। उन्होंने फोन यूजर्स को थर्ड पार्टी एप स्टोर से कोई भी एप्लिकेशन डाउनलोड करने से बचने की सलाह दी है। 
 

कमेंट करें
AJMGe