comScore
Dainik Bhaskar Hindi

अनिल अंबानी की कंपनी का निकला दिवाला, खातों में बचे केवल 19.34 करोड़ रुपए

BhaskarHindi.com | Last Modified - November 07th, 2018 13:50 IST

7.1k
0
0
अनिल अंबानी की कंपनी का निकला दिवाला, खातों में बचे केवल 19.34 करोड़ रुपए

News Highlights

  • अनिल अंबानी की टेलिकॉम कंपनी का दिवाला निकल गया है।
  • रिलायंस टेलिकॉम और उसकी यूनिट कम्युनिकेशंस के सभी 144 बैंक खातों में कुल मिलाकर 19.34 करोड़ रुपये बचे हैं।
  • कंपनी कई कानूनी पचड़ों में फंस चुकी है और कंपनी पर देनदारों का लगातार दबाव बना हुआ है।


डिजिटल डेस्क, मुंबई। अनिल अंबानी की टेलिकॉम कंपनी का दिवाला निकल गया है। स्थिति ये है कि रिलायंस टेलिकॉम और उसकी यूनिट कम्युनिकेशंस के सभी 144 बैंक खातों में कुल मिलाकर 19.34 करोड़ रुपये बचे हैं। कंपनी कई कानूनी पचड़ों में फंस चुकी है और कंपनी पर देनदारों का लगातार दबाव बना हुआ है। अनिल अंबानी की अगुवाई वाली कंपनी पर कुल 46,000 करोड़ रुपये का कर्ज है। लीज की रकम न चुकाने के चलते रिलायंस के वायरलेस ऑपरेशंस भी बंद हो चुके है। वायरलेस ऑपरेशन बंद होने से कंपनी के रेवेन्यू को तगड़ा झटका लगा है।

इस साल दिवालियापन की कार्यवाही से जैसे तैसे बचकर निकली रिलायंस कम्युनिकेशंस ने हाईकोर्ट में हलफनामा दायर कर अपने बैंक खातों की जानकारी दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, रिलायंस ने कोर्ट में दिए अपने हलफनामे में बताया है कि उसके रिलायंस कम्युनिकेशंस के 119 बैंक खातों में सिर्फ 17.86 करोड़ रुपए की रकम जमा है। वहीं रिलायंस कम्यूनिकेशंस की यूनिट रिलायंस टेलीकॉम के 25 खातों में 1.48 करोड़ रुपए जमा हैं। दोनों कंपनियों ने अक्टूबर में दायर हलफनामे में कोर्ट से बैंक स्टेटमेंट पेश करने के लिए समय मांगा था। इस मामले की अगली सुनवाई 13 दिसंबर को है।

रिलायंस कम्युनिकेशंस को उम्मीद थी कि वह रिलायंस जियो को वायरलेस स्पेक्ट्रम बेचकर 18,000 करोड़ रुपए जुटा लेगा। इस रकम से वह अपना कर्ज चुकाना चाहता था, लेकिन डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्युनिकेशंस (DOT) ने इस सौदे को मंजूरी नहीं दी। DOT रिलायंस कम्युनिकेशंस से 2,947 करोड़ रुपए की बैंक गारंटी की डिमांड कर रहा है। हालांकि ट्रिब्यूनल ने पिछले महीने बैंक गारंटी की DOT की डिमांड को खारिज कर दिया। DOT अब इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज करेगा। इस कारण आरकॉम और जियो के बीच होने वाली डील और और भी ज्यादा देरी हो सकती है।
 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें

ई-पेपर