दैनिक भास्कर हिंदी: #B'day Special: ऑस्ट्रेलिया का दुश्मन था ये खिलाड़ी, 16 साल पहले पीटा था कंगारुओं को

November 1st, 2017

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। बात 2001 की है, इंडिया, ऑस्ट्रेलिया जैसी मजबूत टीम के खिलाफ टेस्ट मैच खेल रही थी। कंगारुओं की टीम काफी मजबूत स्थिति में थी और कोलकाता टेस्ट के तीसरे दिन ही 274 रन की लीड लेकर उसने इंडिया टीम को फॉलोऑन के लिए मजबूर कर दिया। दूसरी पारी सचिन तेंदुलकर भी सिर्फ 10 रन बनाकर पवैलियन लौट चुके थे। टीम इंडिया की जीत दूर-दूर तक नहीं दिखा रही थी और ऑस्ट्रेलिया अपने खाते में एक और जीत जोड़ने ही वाली थी। टीम इंडिया की हालत बहुत खराब हो चुकी थी। तभी कोलकाता टेस्ट में एक चमत्कार देखने को मिला। क्रीज पर एक खिलाड़ी आया, जिसने कंगारू बॉलरों को घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया और 281 रन की शानदार पारी खेलकर, टीम इंडिया को जीत दिलाई। इस खिलाड़ी का नाम और कुछ नहीं बल्कि, वीवीएस लक्ष्मण था। उन्हें 'वेरी-वेरी स्पेशल' भी कहा जाता है। उन्हें ये नाम ऑस्ट्रेलिया के महान खिलाड़ी ईयान चैपल ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शानदार खेलने के बाद दी थी। आज वीवीएस लक्ष्मण 43 साल के हो गए हैं और इसी खास मौके पर हम आपको उनके बारे में कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं, जो शायद ही आप जानते हों। 

 

क्रिकेट और डॉक्टरी में उन्होंने क्रिकेट को चुना

 

Image result for vvs laxman

 

1 नवंबर 1974 को हैदराबाद में जन्में वीवीएस का पूरा नाम वांगीपुरप्पु वेंकट साईं लक्ष्मण था। उनके माता-पिता एक डॉक्टर थे, इसलिए वो भी पढ़ाई में बचपन से ही काफी तेज थे। उनकी लाइफ में एक बार ऐसी सिचुएशन आई, जब उन्हें क्रिकेट और डॉक्टरी में से किसी एक को चुनना था। ऐसे में लक्ष्मण ने अपनी दिल की सुनी और क्रिकेट को अपना करियर बनाया। ये बात बहुत कम लोग ही जानते हैं, कि लक्ष्मण भारत के पहले वाइस प्रेसिडेंट डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के पड़पोते हैं। 

 

साउथ अफ्रीका के खिलाफ किया डेब्यू

 

Image result for vvs laxman against south africa

 

वीवीएस लक्ष्मण ने साल 1996 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था। अपने करियर की पहली सेंचुरी लगाने के लिए लक्ष्मण को 3 साल से ज्यादा का समय लगा और आखिरकार 2000 में उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 167 रनों की पारी खेलकर अपनी पहली सेंचुरी लगाई। इसके बाद से ही लक्ष्मण कंगारुओं के दुश्मन बन गए। इसके बाद 2001 में भी उन्होंने कंगारुओं के खिलाफ 281 रनों की पारी खेलकर न सिर्फ टीम इंडिया को फॉलोऑन से उबारा, बल्कि टीम को जीत भी दिलाई। इसके साथ ही लगातार 16 मैच जीतते आ रही ऑस्ट्रेलिया के विजयरथ पर भी लगाम लगाई। 

 

ऑस्ट्रेलिया के दुश्मन रहे हैं लक्ष्मण

 

Image result for vvs laxman against australia

 

वीवीएस लक्ष्मण ने ऑस्ट्रेलिया से ऐसे समय में दुश्मनी ली, जब वो वर्ल्ड की सबसे मजबूत टीम मानी जाती थी। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लक्ष्मण का बल्ला हमेशा से ही बोलता रहा है। उन्होंने अपने इंटरनेशनल करियर में 11,125 रन बनाए हैं, जिसमें से 3,173 रन तो सिर्फ ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही रहे हैं। वीवीएस लक्ष्मण, सचिन तेंदुलकर के बाद टीम इंडिया के ऐसे दूसरे खिलाड़ी हैं, जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2000 से ज्यादा रन बनाए हैं। 

 

कैसा रहा लक्ष्मण का करियर? 

 

Related image

 

वीवीएस लक्ष्मण ने टीम इंडिया की तरफ से 134 टेस्ट और 86 वनडे मैच खेले हैं, लेकिन इसके बाद भी वो एक भी वर्ल्ड कप में नहीं खेल पाएं हैं। लक्ष्मण का करियर बेहद उतार-चढ़ाव भरा रहा है और टीम में भी उनकी कभी परमानेंट जगह नहीं बन पाई। लक्ष्मण ने टेस्ट मैच में 45.5 के एवरेज से 8,781 रन और वनडे में 30.76 के एवरेज से 2,338 रन बनाए हैं। इतना ही नहीं, लक्ष्मण के नाम टेस्ट क्रिकेट में 17, तो वनडे में 6 सेंचुरी हैं। 

 

सचिन ने खोला राज- कैसे बनाते थे इतने रन?

 

 

'गॉड ऑफ क्रिकेट' कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने वीवीएस लक्ष्मण को कुछ अलग ही अंदाज में बर्थडे विश किया है। उन्होंने लक्ष्मण को बर्थडे विश करते हुए ट्वीट किया, 'क्या मैं आपके रन स्कोर करने की एबिलिटी का सीक्रेट खोल दूं? बैंटिंग पर जाने से पहले शॉवर लेना और सेब खाना ही आपकी सफलता का राज है।'

 

 

वहीं इंडिया टीम के पूर्व बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने भी मजाकिया अंदाज में वीवीएस को बर्थडे विश किया। सहवाग ने वीवीएस को 'कलाई का जादूगर' और 'भारतश्री' बताते हुए ट्वीट किया, 'किसी भी सिचुएशन को अपनी फ्लिक (कलाई के झटके) से शांत कर सकते हैं। चिटियां कलाइयां।'