comScore

खुश खबरी: नागपुर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज डिस्चार्ज, मेयो हॉस्पिटल से घर भेजा

खुश खबरी: नागपुर में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज डिस्चार्ज, मेयो हॉस्पिटल से घर भेजा

डिजिटल डेस्क,नागपुर।  कोरोना के खौफ से जूझ रहे शहर के लिए एक बड़ी खुश खबरी आई नागपुर के कोरोना के पहले पॉजिटिव मरीज को इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) के वार्ड 24 से  डिस्चार्ज कर घर भेज दिया गया। मरीज को अब 14 दिन तक घर पर क्वारंटाइन होकर रहना होगा।

यह रहा घटनाक्रम
गुरुवार को पहले पॉजिटिव मरीज को ठीक होने पर भेजने की तैयारी कर ली गई थी। वार्ड 24 के बाहर एंबुलेंस क्रमांक एमएच 49 सी 0126 को तैयार रख लिया गया था। एंबुलेंस पहुंचने के बाद अटेंडेंट को बुलाया गया। मरीज ठीक होने के 15वें दिन पहली बार वार्ड 24 से घर जाने के िलए दोपहर 2.23 बजे बाहर िनकला। नीचे आने के बाद उपचार करने वाली मेडिसिन विभाग प्रमुख डॉ.मृणाल हरदास ने पहले पॉजिटिव मरीज के पीठ पर हाथ रखकर तारीफ की और वह सीधा एंबुलेंस में जा बैठा। वहीं अटेंडेंट ने उसका सामान एंबुलेंस में रखा और गाड़ी में बैठकर दोपहर 2.25 बजे घर के िलए रवाना हो गए।

यह था मामला
नागपुर में 45 वर्षीय पहला पाॅजिटिव मरीज 11 मार्च को आया था। उसे 4 दिन से बुखार और गले में दर्द था। इसके िलए मरीज ने नाक, कान और गला रोग विशेषज्ञ के अलावा मेडिसिन के डॉक्टर का उपचार लिया था फिर भी तबीयत ठीक नहीं हुई। शहर के वरिष्ठ डॉक्टर और पारिवारिक मित्र ने इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) में कोरोना की जांच करवाने की सलाह दी क्योंकि मरीज विदेश से लौटा था और उसके लक्षण भी कोरोना संदिग्ध वाले थे। पॉजिटिव आने के बाद ध्यान में आया कि मरीज अटलांटा से वाशिंगटन डीसी, दोहा होते हुए 5 मार्च को डॉ.बाबासाहब आंबेडकर अंतरराष्ट्रीय विमानतल, नागपुर पर पहुंचा था।

11 मार्च को कोरोना पॉजिटिव की पुष्टि होने के बाद उसके परिवार सहित कंपनी के कर्मचारियों और उपचार करने वाले डॉक्टरों की जांच की गई। इसमें पहले उसकी पत्नी और एक सहयोगी को कोरोना की पुष्टि हुई जबकि 14 मार्च को एक और सहयोगी को कोरोना होने की पुष्टि हुई। तीनों शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेडिकल) में भर्ती है। पहले पॉजिटिव मरीज की तबीयत 15 और 16 मार्च को बुखार आने से िबगड़ी थी लेकिन 15 और 17 मार्च की गई कोरोना का जांच िरपोर्ट निगेटिव आई थी। वहीं 24 मार्च को भी मरीज की कोरोना की तीसरी जांच रिपोर्ट निगेटिव आई थी। वहीं इसके अलावा मरीज की नियमित रूप से किडनी, लिवर, एक्स-रे सहित अन्य जांचे की जा रही थी। 24 मार्च को सीटी स्कैन भी किया गया था।

कमेंट करें
nAUjM