comScore

 मेयो: कोरोना के लिए कैजुअल्टी के सामने बनाई ओपीडी

 मेयो: कोरोना के लिए कैजुअल्टी के सामने बनाई ओपीडी

डिजिटल डेस्क, नागपुर। इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल (मेयो) में सर्दी, खांसी, जुकाम, गले में खराश, दर्द, बुखार और कोरोना से संबंधित लक्षण वाले मरीजों के लिए कैजुअल्टी के सामने बाह्य रोग विभाग (ओपीडी) बनाई गई है। यह ओपीडी अब तक ओपीडी की बिल्डिंग के अंदर 15 नंबर में संचालित होती थी लेकिन वहां अधिक मरीज होने की वजह से लोगों में डर बना रहता था जिससे बचाने के लिए ओपीडी की जगह को बदल दिया गया है।

शहर में भले ही 14 मार्च के बाद से कोरोना का एक भी पॉजिटिव मरीज नहीं आया है लेकिन अन्य देशों के शहरों की भयाभय स्थिति को ध्यान में रखकर लगातार सुविधाएं जुटाने का काम किया जा रहा है। इसी कड़ी में सोमवार से कैजुअल्टी के सामने ओपीडी आरंभ कर दी गई है। इस जगह पुरानी कैजुअल्टी थी, जिसके बाद वहां मनोरोग विभाग में स्नातकोत्तर की सीट की मान्यता के लिए वार्ड बनाया गया था। इसके बाद अब वहां कोरोना के लिए ओपीडी बना दी गई है।

यह होगा फायदा
मेयो की ओपीडी बिल्डिंग में मेडिसिन विभाग द्वारा सर्दी, खांसी, जुकाम और कोरोना संदिग्ध मरीजों को अब तक 15 नंबर ओपीडी में देखा जाता था लेकिन वहां सभी ओपीडी एकसाथ होने की वजह से मरीजों की बहुत ज्यादा भीड़ बनी रहती थी। लोगों को चाहकर भी एक-दूसरे के पास खड़े होने को मजबूर होना पड़ता था। वहां पहुंचने वाले प्रत्येक मरीज जब अपनी समस्या डॉक्टर को बताता था तो सभी का ध्यान उसी पर बना रहता था। जैसे ही किसी मरीज ने बोला कि वह विदेश से आया है या फिर उसे गले में खराश, बुखार या जुकाम है तो लोगों के चेहरे पर डर दिखाई देने लगता था। इन सारी समस्याओं को ध्यान में रखकर मेयो में कैजुअल्टी के सामने ओपीडी बनाई गई है जिससे लोगों को उपचार में आसानी होगी और मन में डर नहीं रहेगा।

कमेंट करें
r9c02