दैनिक भास्कर हिंदी: पैरोल के लिए साईबाबा हाईकोर्ट की शरण में

August 12th, 2020

डिजिटल डेस्क, नागपुर। नक्सल समर्थक जी.एन साईबाबा ने पैरोल के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर खंडपीठ की शरण ली है। अपनी बीमार मां की मृत्यु होने की वजह से साईबाबा कुछ दिन के लिए जेल से बाहर आना चाहता है। 1 अगस्त को साईबाबा की मां का निधन हो गया था। साईबाबा के अलावा उसके अन्य साथी प्रशांत राही ने भी हाईकोर्ट में जमानत याचिका दायर की है। इस पर  हाईकोर्ट ने याचिकाकर्ता का पक्ष सुनकर राज्य सरकार को नोटिस जारी कर 18 अगस्त तक जवाब मांगा है।

बता दें कि, गड़चिरोली पुलिस ने दिल्ली के जेएनयू के विद्यार्थी हेम मिश्रा को अगस्त 2013 में महेश तिरकी और पांडु नरोटे के साथ अहेरी से गिरफ्तार किया था। हेम मिश्रा से पूछताछ के बाद पुलिस ने सितंबर 2013 में प्रशांत राही काे भी गिरफ्तार किया। नक्सली नेता गणपति व नर्माद अक्का और साईबाबा के बीच मध्यस्थता करने का दावा पुलिस की ओर से किया गया। 23 दिसंबर 2015 में साईबाबा ने भी आत्मसमर्पण कर दिया था। गड़चिरोली जिला व सत्र न्यायालय ने प्रशांत राही सहित साईबाबा और अन्य नक्सलियों की मदद करने का दोषी करार देकर उम्रकैद की सजा सुनाई है। मामले में याचिकाकर्ता की ओर से एड. मिहिर देसाई और सरकार की ओर से विशेष सरकारी वकील पी. सत्यनाथन ने पक्ष रखा।