दैनिक भास्कर हिंदी: Bird Flu in Madhya Pradesh: इंदौर और नीमच में कुक्कुट और चिकन बाजार सात दिन के लिए बंद

January 8th, 2021

डिजिटल डेस्क, भोपाल। मध्य प्रदेश में बर्ड फ्लू अब मुर्गी और बगुलों में भी पहुंच गया है। इंदौर और नीमच के मुर्गी बाजार से लिए गए नमूने में बर्ड फ्लू मिला है। इसके बाद पशुपालन विभाग ने इंदौर और नीमच जिले में कुक्कुट और चिकन मार्केट सात दिन के लिए बंद करने के आदेश दिए गए हैं। कलेक्टरों को संबंधित क्षेत्र के मुर्गी बाजार को सात दिन तक बंद करने के निर्देश दिए हैं। वहीं, नौ किलोमीटर के दायरे में निगरानी रखी जाएगी।

अब तक आठ जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई
प्रदेश में अब तक आठ जिलों में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। जबकि, 12 जिलों की रिपोर्ट आना बाकी है। वहीं, विदिशा जिले में 34 पक्षियों की मौत हुई है। इनमें कौओं के अलावा कबूतर और मोर भी शामिल हैं। नमूनों को जांच के लिए भेजा गया है। राज्य के पशुपालन विभाग के अपर मुख्य सचिव जे एन कंसोटिया द्वारा गुरुवार को जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि भोपाल स्थित राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा रोग अनुसंधान प्रयोगशाला द्वारा इंदौर, नीमच, देवास, उज्जैन, खंडवा, खरगोन, गुना आदि जिलों के कौओं में बर्ड फ्लू की पुष्टि की गई है। वहीं नीमच में टेबल स्वेब, नाइफ स्वेब के नमूने पॉजिटिव पाए गए है। इंदौर में क्लोएकल, नाइफ और टेबिल स्वेब के प्रीलिमनरी टेस्ट पॉजिटिव आए हैं।

चिन्हित स्थान से एक किमी की परिधि में मुर्गी बाजार 7 दिन के लिए बंद रखे जाएंगे   
पशुपालन विभाग के अपर मुख्य सचिव जेएन कंसोटिया ने बताया कि इंदौर (डेली कॉलेज क्षेत्र) और नीमच के मुर्गी बाजार से जो नमूने लिए गए थे, उनमें से एक-एक की प्रारंभिक जांच में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। ऐसे में केंद्र सरकार के दिशानिर्देशों के तहत जिले के चिन्हित स्थान से एक किलोमीटर की परिधि में मुर्गी बाजार सात दिन के लिए बंद रखे जाएंगे। नीमच और इंदौर कलेक्टर को निर्देश दिए गए हैं कि पोल्ट्री फार्म, जलाशयों के आसपास से पोल्ट्री एवं प्रवासी पक्षियों के नमूने लेकर जांच के लिए प्रयोगशाला भेजे जाएं।

सभी मुर्गी बाजार और पोल्ट्री फार्म में सेनिटाइजेशन सहित अन्य सावधानियां भी बरती जाए। मुर्गियों, कौओं और प्रवासी पक्षियों में असामान्य मृत्यु, बीमारी की सूचना मिलने पर सेंपल एकत्रीकरण, डिस्पोजल के साथ सेनिटाइजेशन की कार्रवाई की जाए। विभाग के संचालक आरके रोकड़े ने बताया कि खरगोन, खंडवा, गुना और देवास में कौओं के नमूने में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। खंडवा के चार-पांच बगुलों में भी बर्ड फ्लू मिला है। पोल्ट्री फार्मों की जांच में अभी तक बर्ड फ्लू जैसी स्थिति नहीं मिली है।

राजस्थान के रास्ते हरियाणा से आई थी मुर्गियां
विभागीय अधिकारियों ने बताया कि नीमच में जांच के दौरान पता चला है कि राजस्थान के रास्ते हरियाणा से मुर्गियां लाई गई थीं। इनमें से ही लिए गए नमूने में बर्ड फ्लू मिला है। यही बात इंदौर से भी निकलकर सामने आ रही है। अपर मुख्य सचिव जेएन कंसोटिया का कहना है कि इस मामले में पूरा परीक्षण कराया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...