comScore

Upcoming Features: WhatsApp ला रहा है ये खास फीचर्स, जानें इनके बारे में

Upcoming Features: WhatsApp ला रहा है ये खास फीचर्स, जानें इनके बारे में

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp (व्हाट्सएप) अपने यूजर्स के अनुभव को बढ़ाने के लिए समय- समय पर नए अपडेट और फीचर्स देता है। Facebook (फेसबुक) के स्वामित्व वाले WhatsApp अपने लेटेस्ट फीचर्स और आसान यूज के लिए दुनियाभर में लोकप्रिय ऐप है। WhatsApp ने हाल ही में अपने यूजर्स के लिए एनीमेटेड स्टीकर्स, क्यूआर कोड्स, डार्क मोड फॉर वेब एंड डेस्कटॉप आदि फीचर्स को जारी किया है। खबर है कि जल्द ही कंपनी अपने ग्राहकों को कुछ नए फीचर्स उपलब्ध कराने वाली है। 

WhatsApp पर आने वाले फीचर्स में एक्सपायरिंग मैसेज, सर्च ऑन वेब, म्यूट चैट, लेटेस्ट इमोजी, मल्टी डिवाइस सपोर्ट/ लिंक्ड डिवाइस स्टोरेज कंट्रोल आदि शामिल हैं। इन फीचर्स के लिए यूजर्स को जल्द ही रोलआउट ​किया जा सकता है। आइए जानते हैं इन फीचर्स के बारे में...

Netflix अब हिंदी में होगा उपलब्ध, जानें कैसे करें हिंदी इंटरफेस सेटिंग

Multi-device support
WhatsApp पिछले कुछ समय से अपने मल्टी-डिवाइस सपोर्ट पर काम कर रही है। WABetaInfo के अनुसार, व्हाट्सएप का ये आगामी फीचर फिलहाल अंडर डेवलपमेंट स्टेज में है लेकिन उम्मीद है की इस फीचर को आगमी बीटा रिलीज के साथ जारी किया जा सकता है।

Expiring messages
WhatsApp जल्द ही Expiring messages के नाम से एक फीचर को रोलआउट करेगा। इस फीचर पर लंबे समय से काम किया जा रहा है। इस खास फीचर के माध्यम से चैट्स में एक निश्चित समय के बाद मैसेज अपने आप डिलीट हो जाएंगे। यूजर्स अपनी सुविधा के अनुसार इस फीचर को ऑन या ऑफ कर पाएंगे। ग्रुप चैट्स में यह फीचर सिर्फ एडमिन के लिए ही होगा। 

Storage control
WABetaInfo के अनुसा, WhatsApp यूजर्स को स्टोरेज ऑप्शन में ज्यादा कंट्रोल देने की तैयारी में है। बता दें कि वर्तमान में व्हाट्सएप में जो भी रिसीव होता है वो यूजर के डिवाइस में एक फोल्डर में स्टोर होता जाता है, ऐसे में यदि कुछ डिलीट करना हो तो यूजर को हर मैसेज को एक-एक कर सिलेक्ट करना पड़ता है। एक-साथ कई मैसेज डिलीट करने हो तो या तो एक-एक कर सिलेक्ट करना पड़ता है या फिर पूरे फोल्डर को एक ही बार में डिलीट करने का विकल्प बचता है। नए फीचर के बाद यह समस्या खत्म हो जाएगी।

भारत सरकार ने Mi Browser Pro और Baidu को बैन किया, शाओमी ने कहा- उचित कदम उठाएंगे

Search on web
व्हाट्सऐप का ये फीचर हाल ही स्पेन, ब्राजील, ब्रिटेन समेत कई दूसरे देशों में रोलआउट किया गया है। कंपनी ने इस खास फीचर को इसलिए पेश किया है ताकि झूठी और गलत खबरों को फैलने से रोका जा सके। इसमें फॉरवर्डेड मैसेज के ऊपर अब एक मैग्निफाइंग ग्लास आइकन दिया गया है। इस आइकन पर टैप करने से यूजर्स वेब पर रीडायरेक्ट हो जाएंगे, जहां वे मैसेज चेक और वेरिफाई कर सकते हैं। भारत में इसे जल्द लॉन्च होने की संभावना है।

Mute Chat
WhatsApp पर अभी किसी भी चैट्स में 8 घंटे, एक हफ्ते और एक साल की टाइम लिमिट मिलती है, लेकिन व्हाट्सऐप के इस फीचर की मदद से यूजर्स हमेशा के लिए चैट्स को म्यूट कर सकते हैं। Always म्यूट ऑप्शन के जरिए यूजर्स को एक साल के लिए चैट्स को म्यूट करने का ऑप्शन मिलेगा। फिलहाल कंपनी इस फीचर पर काम कर रही है।

Latest Emoji
WhatsApp में इमोजी बहुत समय से दी जा रही है, लेकिन भारत में वॉट्सऐप पर 138 नए इमोजी के लिए सपोर्ट लेकर आ सकता है। लेटेस्ट अपडेट के साथ ऐंड्रॉयड बीटा यूजर्स के लिए यह फीचर अवेलेबल है।

कमेंट करें
Vi79f
NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।