दैनिक भास्कर हिंदी: दिल्ली में डीजल की कीमत पिछले 15 दिनों में 8.88 रुपये प्रति लीटर बढ़ी

June 21st, 2020

हाईलाइट

  • दिल्ली में डीजल की कीमत पिछले 15 दिनों में 8.88 रुपये प्रति लीटर बढ़ी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली, 21 जून (आईएएनएस)। राष्ट्रीय राजधानी में डीजल की कीमत लगातार 15 दिनों तक बढ़ने के बाद रविवार को यह एक नए सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गई है। दिल्ली में रविवार को 60 पैसे की बढ़ोतरी के साथ डीजल 78.27 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। सात जून को 80 दिनों के बाद दैनिक मूल्य संशोधन के लिए गतिशील मूल्य निर्धारण प्रणाली फिर से शुरू हुई, जिसके बाद से राष्ट्रीय राजधानी में डीजल की कीमत में 8.88 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है।

इस बढ़ोतरी के साथ, पेट्रोल और डीजल की कीमतों के बीच का अंतर अपने सबसे निचले स्तर पर आ गया है। दिल्ली में डीजल की कीमत पेट्रोल की कीमत से महज एक रुपये से भी कम है।ईंधन दरों में वृद्धि महानगरों में समान रही है। मुंबई, चेन्नई और कोलकाता में डीजल क्रमश: 76.69 रुपये, 75.80 रुपये और 73.61 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है, जबकि पिछली कीमत क्रमश: 76.11 रुपये, 75.29 रुपये और 73.07 रुपये थी।

पेट्रोल की कीमत में भी 15 दिनों में निरंतर वृद्धि देखी गई है और इस अवधि के दौरान पेट्रोल पहले से 7.97 रुपये प्रति लीटर महंगा हो चुका है। रविवार को पेट्रोल की कीमत 79.23 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच गई है, जो अपने पिछले स्तर से 35 पैसे महंगा बिक रहा है। मुंबई, चेन्नई और कोलकाता में इसकी कीमत फिलहाल क्रमश: 86.04 रुपये, 82.58 रुपये और 80.95 रुपये प्रति लीटर है, जबकि इससे पहले इसकी कीमत 85.70 रुपये, 82.27 रुपये और 80.62 रुपये प्रति लीटर थी।

दो सप्ताह से अधिक समय से निरंतर मूल्य वृद्धि के बाद हालांकि आने वाले दिनों में ऑटो ईंधन की कीमतों में वृद्धि या तो रुक सकती है या आने वाले सप्ताह में इसकी कीमत गिर सकती है, क्योंकि तेल कंपनियों ने अब उत्पादों को अंतराष्र्ट्ीय बेंचमार्क दरों के करीब कीमत दी है। ऐसा भी हो सकता है कि आने वाले दिनों में तेल कंपनियों द्वारा कीमतें न बदली जाएं।

हालांकि ऑयल मार्केटिंग कंपनियों के सूत्रों ने कहा कि कीमतों में बढ़ोतरी कुछ और दिनों तक जारी रह सकती है, क्योंकि वैश्विक उत्पाद कीमतों में तेजी के साथ वैश्विक कोविड-19 लॉकडाउन के बाद अर्थव्यवस्थाओं के खुलने के बाद मांग में तेजी आ रही है। वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें अप्रैल के स्तर से दोगुना बढ़कर 42 डॉलर प्रति बैरल के स्तर पर पहुंच गई हैं।