दैनिक भास्कर हिंदी: ED ने बताया मेहुल चोकसी को PNB घोटाले का मास्टरमाइंड

July 28th, 2018

हाईलाइट

  • ED ने मेहुल चोकसी को बताया पंजाब नेशनल बैंक घोटाले का मास्टरमाइंड।
  • मेहुल चोकसी ने ही इस फर्जीवाड़े की प्लानिंग बनाई और आयात-निर्यात की आड़ में रकम इधर-उधर की।
  • रकम के हेर-फेर में जिन कंपनियों का इस्तेमाल किया गया, उनके डायरेक्टर और पार्टनर डमी की तरह थे। सारे फैसले चौकसी लेता था।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक में हुए 13000 करोड़ रुपए से ज्यादा के घोटाले का मास्टर माइंड कौन है इस पर अब तक सस्पेंस बना हुआ था। शुक्रवार को प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मुंबई की स्पेशल कोर्ट में जो चार्जशीट दाखिल की है उसमें इस घोटाले का मास्टर माइंड मेहुल चोकसी को बताया गया है। ED ने कहा है कि मेहुल चोकसी ने ही इस फर्जीवाड़े की प्लानिंग बनाई और आयात-निर्यात की आड़ में रकम इधर-उधर की। रकम के हेर-फेर में जिन कंपनियों का इस्तेमाल किया गया, उनके डायरेक्टर और पार्टनर डमी की तरह थे। सारे फैसले चौकसी लेता था। उधर चोकसी ने खुद बयान जारी बताया कि उसने एंटिगुआ की नागरिकता क्यों ली?

 

 

कारोबार के विस्तार के लिए नागरिकता
मेहुल चोकसी ने अपने वकील के माध्यम से जारी एक बयान में कहा, वह अपने कारोबार का विस्तार करना चाहता था और 130 देशों की यात्रा के लिए मुफ्त वीजा हासिल करना चाहता था इसीलिए उसने एंटीगुआ की नागरिकता ली। वहीं उसने ये भी कहा कि उसके खिलाफ लगाए गए आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है। उसने कानूनसम्मत तरीके से एंटीगुआ और बारबुडा का नागरिक बनने के लिए आवेदन किया था। इस आवेदन के लिए जरूरी सभी शर्तें उसने पूरी की हैं। चोकसी ने कहा, 'मैंने एंटीगुआ में रहने का निर्णय लिया है, यहां की नागरिकता ली है और यहां के उन सभी कानून का पालन करूंगा जो हर नागरिक का कर्तव्य होता है।' बता दें कि चोकसी ने नवंबर, 2017 में एंटीगुआ की नागरिकता ली है और 15 जनवरी, 2018 को देशभक्ति की शपथ ली है। गौरतलब है कि मेहुल चोकसी के खिलाफ पंजाब नेशनल बैंक घोटाला मामले में गैर जमानती वॉरंट जारी है और उसके प्रत्यर्पण की कोशिश लगातार भारत सरकार कर रही है। गुरुवार को आर्थिक भगौड़े कानून के तहत भी मेहुल चोकसी को समन जारी किया गया है।

 

मेहुल चोकसी, Mehul Choksi, Mehul Choksi Statement, PNB SCAM, PNB Fraud, Nirav Modi, Antigua Citizenship


क्या है पीएनबी घोटाला?
पंजाब नेशनल बैंक में 13,400 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया था। ये घोटाला बैंक की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में हुआ था। फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (LOUS) के जरिए इस पूरे फ्रॉड को अंजाम दिया गया था। इस घोटाले का खुलासा तब हुआ, जब PNB के भ्रष्ट अधिकारी-कर्मचारी रिटायर हो गए और नीरव मोदी की कंपनी ने जनवरी में दोबारा से LOU जारी करने की सिफारिश की। घोटाले के खुलासे के बाद डायमंड किंग नीरव मोदी और गीतांजलि जेम्स के प्रमोटर मेहुल चौकसी के खिलाफ सीबीआई ने एफआईआर दर्ज की थी।