comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

सड़क हादसा : ट्रक ने मैजिक वाहन को रौंदा, आठ की मौत, 6 गंभीर रुप से घायल

March 15th, 2019 19:15 IST
सड़क हादसा : ट्रक ने मैजिक वाहन को रौंदा, आठ की मौत, 6 गंभीर रुप से घायल

डिजिटल डेस्क, बकस्वाहा। बीती रात बंडा से 2 किमी दूर हरसिद्धी मंदिर ग्राम जमुनिया के पास मैजिक एवं ट्रक की भीषण टक्कर होने से मैजिक में सवार 8 लोगों की मौत हो गई। पांच घटना स्थल पर ही चल बसे थे, जबकि सागर से रेफर किए गए घायलों में दो की मौत सागर और एक की मौत भोपाल में हुई। हादसे में 6 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। हादसा इतना भीषण था कि मैजिक वाहन के परखच्चे उड़ गए और घटना स्थल पर चीख पुकार मच गई थी। सभी घायलों को उपचार पश्चात गंभीर अवस्था में सागर जिला अस्पताल रेफर किया गया।

जन्मोत्सव समारोह में भाग लेने जा रहे थे सभी
प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम मुडिया बम्होरी जिला छतरपुर से बांदरी क्षेत्र के उमावड़ा गांव का एक परिवार अपनी बहिन के जन्मोत्सव में जा रहे थे। बंडा से 2 किमी दूर अज्ञात ट्रक ने मैजिक को जोरदार टक्कर मार दी, जिससे सवार दूर जा गिरे। ट्रक चालक मौके से भाग निकला। ट्रक बंडा से शाहगढ़ की ओर जा रहा था। घायलों को बंडा स्वास्थ्य केन्द्र लाते समय मथुराप्रसाद लोधी 60 वर्ष केशरी सिहं लोधी 17 वर्ष तीसरी संजना लोधी 14 वर्ष और देवेन्द्र ठाकुर चालक 25 वर्ष घनश्याम लोधी 38 वर्ष की मौत हो गई। गंभीर घायलों को प्राथमिक उपचार पश्चात् सागर रेफर किया गया। जिनमें बलवंत प्रतिपाल अजय सिंह शिवम  सिंह कृपाराम हरिसिंह राजाराम छुट्टू राजा आकाष लोधी को सागर रिफर किया गया। इसमें से कृपा लोधी 55 वर्ष राजाराम लौधी 35 वर्ष की सागर में और राजू लोधी 45 वर्ष की भोपाल अस्पताल में मौत हो गई।

मैजिक चालक देवेन्द्र ठाकुर को ग्रामीणों के सहयोग से पुलिस अमले ने वाहन को काटकर बाहर निकाला। प्रत्यक्षदर्षियों ने बताया कि हादसा इतना भीषण था कि मैजिक वाहन के परखच्चे उड़ गए। सूचना मिलते ही एसडीएम विनय द्विवेदी तहसीलदार विनीता जैन शाहगढ़ सीईओ सुनीता शर्मा  टीआई सतीष सिंह आरआई पटवारी  दुर्घटना स्थल पर पहुंचे। प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर लाने में सभी ने घायलों का सहयोग किया।

पूरे क्षेत्र में दुख का वातावरण
जैसे ही परिजन और गांव के लोगो को हादसा की सूचना लगी तो गांवों मे हाहाकार मच गया। आज सुबह ही प्रशासनिक अगले सहित आसपास के लोग जनप्रतिनिधि सहित मीडिया और गाँव के लोगों का हुजूम एकत्रित हो गया। एक साथ पांच चिताओं की लपटों से उपस्थित जन समुदाय भी अपनी आंखो से आंसू नहीं  रोक पा रहा था।

कमेंट करें
p3qzS
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।