दैनिक भास्कर हिंदी: विधायक के भांजे का अपहरण का प्रयास, चार दिन पहले दूसरे को उठा लिया था

June 25th, 2019

डिजिटल डेस्क, छतरपुर/ नौगांव । कोचिंग से घर लौट रहे एक छात्र का मारुति वैन और बाइक पर सवार होकर आए नकाबपोश युवकों ने अपहरण का प्रयास किया, लेकिन बच्चे की अक्लमंदी से आरोपी मकसद में सफल नहीं हो पाए। छात्र महाराजपुर विधायक नीरज दीक्षित के परिवार का है।  बताया जा रहा है कि वीरेंद्र कॉलोनी में रहने वाला कक्षा 10 वीं का छात्र सोमवार की शाम स्कूटी से कोचिंग से घर लौट रहा था। छात्र जब बंटा सेठ चौराहे के पास पहुंचा, उसी समय पहले से घात लगाए एक काले रंग की मारुति वैन और बाइक में बैठे नकाबपोश अपहरणकर्ताओं ने छात्र की स्कूटी को रोका। उसी दौरान छात्र की स्कूटी फिसल गई। स्कूटी फिसलने के बाद नकाबपोश युवकों ने उसे पकड़ने का प्रयास किया, लेकिन छात्र तत्काल समझ गया कि उसके साथ कुछ गलत होने वाला है। इसलिए तत्काल ही छात्र स्कूटी उठाकर अपने घर की तरफ भागा। छात्र के भागने के बाद कार व बाइक सवार अपहरणकर्ता भी भाग खड़े हए।

नगर में दहशत

भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में छात्र का अपहरण किए जाने की जानकारी पलभर में पूरे नौगांव में फैल गई। प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो अपहरणकर्ता काफी समय से चौराहे पर खड़े थे। जैसे ही छात्र कोचिंग से निकला और नपा वाली रोड आया तो वैन स्टार्ट होकर उसके समीप पहुंच गई और फिर गेट खोलकर चलती गाड़ी से उसे पकड़ा और उसे अंदर खींचने का प्रयास किया। छात्र हड़बड़ा कर गिर गया, तभी दो मोटर साईकिल से कुछ ओर नकाबपोशोंं ने उसे उठाने का प्रयास किया। लेकिन छात्र जल्दी से स्कूटी से चला गया।

सिग्नल दिया, यही है

छात्र जिस रास्ते से आ रहा था, उस रास्ते के दोनों तरफ अपहरणकर्ता खड़े थे। रोड के एक तरफ मारुति में कुछ लोग बैठे थे और दूसरी तरफ बाइक में कुछ लोग बैठे थे। जैसे ही छात्र रोड पर आया तो मोटर साईकिल में जो अपहरणकर्ता थे, उन्होंने मारुति में बैठे अपने साथियों को संकेत दिया कि यही छात्र है। उठा लो इशारा मिलते ही मारुति वैन का गेट खुला और चलती स्कूटी से छात्र को वैन में खींचने का प्रयास किया, इससे छात्र अनियत्रित हो गया और गिर गया। हालांकि आरोपी मकसद में फेल हो गए।

विधायक का भांजा है छात्र

जिस छात्र का अपहरण किया जा रहा था, वह महाराजपुर विधायक का भांजा बताया जा रहा है। छात्र के दादा नौगांव टीबी अस्पताल में अधीक्षक के पद पर पदस्थ हैं। छात्र का अपहरण किए जाने की जानकारी जब घर वालों को लगी तो वे खुद नहीं समझ पा रहे हैं कि आखिर उनके बेटे का अपहरण कौन करना चाह रहा है। परिजनों का कहना है कि उनका किसी से कोई विवाद नहीं है। हालांकि परिजनों द्वारा पुलिस को सूचना दिए जाने के बाद नौगांव थाना पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर मामले की जांच में जुट गई है।

तो क्या चार दिन पहले दूसरे छात्र को धोखे से उठाया था

सोमवार को हुई वारदात के पहले 21 जून को कोचिंग से घर लौट रहे एक छात्र का अपहरण कर लिया गया था, लेकिन जब अपहरणकर्ताओं ने छात्र को देखा तो पता चला कि जिस छात्र का अपहरण करना था, यह वह छात्र नहीं है तो बाद में अपहरणकर्ताओं ने छात्र को छोड़ दिया था। माना जा रहा है कि उस दिन भी अपहरणकर्ता इसी छात्र का अपहरण करने आए थे, लेकिन वे धोखे में दूसरे छात्र का अपहरण कर लिया था। जिसे बाद में छोड दिया।