दैनिक भास्कर हिंदी: ममता बनर्जी ने बंगाल के राज्यपाल को बताया भ्रष्ट, धनखड़ बोले- इस तरह के किसी भी झूठे आरोप से नहीं डरेंगे

June 28th, 2021

डिजिटल डेस्क, कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के बीच सोमवार को फिर से खींचतान देखी गई। जहां ममता ने राज्यपाल पर भ्रष्ट होने का आरोप लगाया, वहीं धनखड़ ने कहा कि वह इस तरह के किसी भी झूठे आरोप से नहीं डरेंगे। 

राज्यपाल ने कहा, 'मैं किसी भी हाल में नहीं झुकूंगा। मैं पश्चिम बंगाल के लोगों की सेवा करने के लिए जो कुछ भी कर सकता हूं, मैं करूंगा।' उन्होंने कहा, 'भारतीय संस्कृति में आज तक किसी ने भी छोटी बहन के खिलाफ कार्रवाई नहीं की है। मैं उस तरफ नहीं जाऊंगा। मैं दुखी हूं। ममता जी एक परिपक्व नेता हैं। उन्होंने ऐसा क्यों किया? बता दें कि ममता बनर्जी ने कहा था, 'मैंने पश्चिम बंगाल के राज्यपाल को हटाने के लिए तीन पत्र लिखे हैं। वह एक भ्रष्ट व्यक्ति हैं, उनका नाम हवाला जैन मामले में 1996 में चार्जशीट में था।' 

क्या कहा राज्यपाल ने?
बनर्जी के इन आरोपों के तुरंत बाद राज्यपाल ने कहा, 'मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें उन्होंने सार्वजनिक तौर पर कुछ गंभीर आरोप लगाए। ये बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। मुझे उम्मीद नहीं थी की वे सनसनी फैलाने के लिए गलत जानकारी  देंगी और गलत तरीके से प्रस्तुत करेंगी।' उन्होंने कहा, 'आपके राज्यपाल को चार्जशीट नहीं किया गया है। ऐसा कोई डाक्यूमेंट नहीं है। यह गलत सूचना है। मैंने हवाला चार्जशीट में किसी कोर्ट से स्टे नहीं लिया है क्योंकि यह था ही नहीं।' राज्यपाल ने कहा, 'यशवंत जी (यशवंत सिन्हा) हवाला केस में चार्जशीट में थे इसलिए ममता बनर्जी को उनसे चर्चा करनी चाहिए। क्या उनको (ममता बनर्जी) जनादेश इन बातों के लिए मिला है कि सभी संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट किया जाए। इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती।'

क्या कहा था ममता बनर्जी ने?
इससे पहले राज्य सचिवालय में संवाददाता सम्मेलन में बनर्जी ने राज्यपाल पर गंभीर आरोप लगाए थे। उन्होंने कहा था, गवर्नर (जगदीप धनखड़) एक भ्रष्ट व्यक्ति हैं, उनका नाम 1996 के हवाला जैन केस की चार्जशीट में था। लेकिन वो कोर्ट गए और वहां से सब मामला क्लियर हो गया था। लेकिन फिर से उसमें पीआईएल दाखिल हुई है, जिसपर फैसला नहीं आया है। पीआईएल वहां पेंडिंग है। बनर्जी ने कहा, मुझे खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि वो एक भ्रष्ट व्यक्ति हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे गवर्नर को केंद्र सरकार क्यों मंज़ूरी देती है? अगर केंद्र सरकार को पता नहीं है तो मैं कहती हूं कि आप चार्जशीट निकालिए। उस चार्जशीट में उनका नाम था कि नहीं था।

खबरें और भी हैं...