comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

हर्ष फायरिंग में भाजपा नेता के पेट में लगी थी गोली - जिला अस्पताल में नहीं हो पाया इलाज

हर्ष फायरिंग में भाजपा नेता के पेट में लगी थी गोली - जिला अस्पताल में नहीं हो पाया इलाज

डिजिटल डेस्क छतरपुर । जिला अस्पताल में बीती रात भाजयुमो नेता बृजेंद्र प्रताप सिंह बाबीराजा को जब ऑपरेशन थियेटर में गोली निकालने के लिए ले जाया गया तो पता चला कि गोली डिटेक्ट करने वाली सी-आर्म मशीन ही खराब है। और तो और, ओटी की लाइटें तक खराब हैं। इस पर भाजपा नेताओं एवं मौके पर मौजूद कांग्रेस विधायक ने आपत्ति ली तो डॉक्टरों ने दबी जुबान से जवाब दिया कि 7 माह से अस्पताल का बजट नहीं आया है। नई मशीन खरीदने के लिए प्रस्ताव भी दे चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं है। यानी जिला अस्पताल में हालात बजाय सुधरने के अत्याधिक खराब होते जा रहे हैं।  इस बीच हर्ष फायर की घटना को लेकर पुलिस ने अज्ञात युवक द्वारा पिस्टल से गोली चलाने का केस दर्ज कर लिया है। 
निजी अस्पताल में हुआ इलाज
गौरतलब है कि भाजयुमो नेता बृजेंद्र प्रताप सिंह बॉबीराजा की बहन का रिश्ता उप्र सरकर के पूर्व मंत्री बादशाह सिंह के पुत्र के साथ तय हुआ है। बॉबीराजा बीती रात अपनी बहन का तिलक लेकर बड़ामलहरा के आगे साठियां मोड़ के पास स्थित बादशाह सिंह की कोठी पर गए थे। वहां हर्ष फायर के दौरान उन्हें पेट में गोली लग गई थी। गोली लगने के बाद इलाज के लिए उन्हें जिला अस्पताल लाया गया। जहां पर माकूल सुविधाएं न होने से पेट में लगी गोली नहीं निकाली जा सकी। मौके पर मौजूद वरिष्ठ भाजपा नेता उसे लेकर मिशन अस्पताल पहुंचे, जहां पर चिकित्सकों ने सी आर्म मशीन से गोली को डिटेक्ट किया और पेट से गोली को निकाल दी। अब भाजयुमो नेता की सेहत में सुधार है। जिला अस्पताल में बाबीराजा को जब ओटी में ले जाया गया, तो तुरंत ही 3 डॉक्टर भी आ गए। डॉक्टरों ने जब भाजपा नेता के पेट में लगी गोली को डिटेक्ट करने के लिए अस्पताल की सी आर्म मशीन से जांच की तो पता चला कि वह महीनों से खराब पड़ी है। मशीन खराब होने से पेट में लगी गोली चिकित्सक नहीं देख पा रहे थे। घंटों मशक्कत के बाद जब जिला अस्पताल के चिकित्सक पेट में लगी गोली को तलाशने में नाकामयाब रहे तो उन्होंने हर बार की तरह मरीज को ग्वालियर रैफर कर दिया। इसके तुरंत बाद मौके पर मौजूद भाजपा नेताओं ने शहर के मिशन अस्पताल से संपर्क किया, जहां रात में ही गोली निकाल दी गई। 
 

कमेंट करें
fdh2W
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।