comScore

मंत्रियों के विभागों का नहीं हुआ बंटवारा, अब नागपुर में मंत्रिमंडल विस्तार!  

मंत्रियों के विभागों का नहीं हुआ बंटवारा, अब नागपुर में मंत्रिमंडल विस्तार!  

डिजिटल डेस्क, मुंबई। राज्य की उद्धव ठाकरे सरकार के मंत्रियों के विभागों का बंटवारा मंगलवार को हो सकता है। सोमवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व कैबिनेट मंत्री पद की शपथ लेने वाले बाला साहेब थोरात और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता विजय वडेट्टीवार ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ करीब डेढ़ घंटे तक बैठक की। इस दौरान शिवसेना के मंत्री सुभाष देसाई व एकनाथ शिंदे भी मौजूद थे। बीते 28 नवंबर को शिवाजी पार्क में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में महाराष्ट्र विकास आघाडी सरकार के मुख्यमंत्री के तौर पर उद्वव ठाकरे के अलावा 6 अन्य नेताओं ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली थी। समझा जा रहा था कि शपथ ग्रहण के दूसरे दिन मंत्रियों के विभागों का बंटवारा हो जाएगा। लेकिन 12 दिन बाद भी मंत्रियों के विभागों का बंटवारा नहीं हो सका है। मंत्रियों के विभागों के बंटवारे सहित मंत्रिमंडल विस्तार में हो रही देरी के चलते समझा जा रहा है कि तीन दलों की सरकार में सबकुछ सही नहीं चल रहा है। विभागों के बंटवारे को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मंगलवार को दिल्ली जा सकते हैं। वहां से हरी झंडी मिलने के बाद शाम तक विभागों का बंटवारा हो सकता है।    


12 दिनों बाद भी मंत्रियों के विभागों के बंटवारा नहीं

राज्य की ठाकरे सरकार के शपथ ग्रहण के 12 दिनों बाद भी मंत्रियों के विभागों के बंटवारा नहीं हो सका। इस बीच कैबिनेट मंत्री पद की शपथ लेने वाले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बाला साहेब थोरात सोमवार को मंत्रालय की पहली मंजिल में स्थित अपने नए कार्यालय का चार्ज ले लिया। इस मौके पर थोरात ने कहा कि पांच सरकार तक यह सरकार सफलतापूर्वग चल सके इसके लिए विभागों के बंटवारे में थोड़ा समय लग रहा है। मंत्रालय स्थित अपने नए कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में थोरात ने कहा कि विभाग का बंटवारा होने के बाद बतौर मंत्री कामकाज की शुरुआत करूंगा। उन्होंने कहा कि तीनों पार्टियां समन्वय से काम कर रही हैं। इस लिए यह सरकार पांच साल तक चलेगी। अजित पवार के उपमुख्यमंत्री बनने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह राकांपा का अंदरुनी मामला है। थोरात ने कहा कि विधानमंडल का अधिवेशन होने वाला है। इस लिए मंत्रिमंडल विस्तार जल्द अपेक्षित है। 

नागपुर में हो सकता है मंत्रिमंडल विस्तार

आगामी 16 दिसंबर से नागपुर में विधानमंडल का शीतकालिन सत्र शुरु होगा। फिलहाल मंत्रिमंडल में बिना विभाग के 6 मंत्री हैं। शिवसेना-कांग्रेस व राकांपा के बीच समन्वय न बन पाने के चलते मंत्रिमंडल विस्तार अटका हुआ है। सूत्रों के अनुसार मंत्रिमंडल विस्तार नागपुर सत्र के दौरान उपराजधानी नागपुर में हो सकता है। दरअसल कांग्रेस में मंत्री बनने के इच्छुकों की भारी तादाद है। ‘एक अनार सौ बीमार’ वाली हालत बन गई है। पार्टी को तीन दलों वाली सरकार में 12 मंत्री पद मिलने वाले हैं, जिसमें से कांग्रेस कोटे से दो मंत्रियों बाला साहेब थोरात व नितिन राऊत शपथ ले चुके हैं। बाकी बचे 10 मंत्री पदों के लिए पार्टी हाईकमान के यहां जोरदार लाबिंग चल रही है। 
 

कमेंट करें
X1jxe