comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

पर्यटन को बढ़ावा देने बनेगा सिटी फॉरेस्ट!-डीएफओ ने भेजा प्रस्ताव, दुर्लभ प्रजातियों के पक्षी के कलरव से गूंजेगा जंगल

पर्यटन को बढ़ावा देने बनेगा सिटी फॉरेस्ट!-डीएफओ ने भेजा प्रस्ताव, दुर्लभ प्रजातियों के पक्षी के कलरव से गूंजेगा जंगल

डिजिटल डेस्क सिंगरौली (वैढऩ)। माड़ा के ईको एडवेंचर पार्क की सफलता के बाद उत्साहित वन विभाग के अधिकारी जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये पिडऱताली में सिटी फॉरेस्ट बनायेगा। सिटी फॉरेस्ट में दुर्लभ प्रजातियों के पक्षियों को देखने का पर्यटक लुफ्त उठा सकेंगे। डीएफओ ने बताया कि सिटी फॉरेस्ट के लिये प्रस्ताव भेजा दिया गया है। सिटी फॉरेस्ट के प्रस्ताव में मंजूरी मिलने के काम शुरू हो जायेगा। सिटी फॉरेस्ट के लिये शहर से लगे क्षेत्र की वन विभाग ने तलाश पूरी कर ली गई है। वन विभाग ने पिडऱताली में 25 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में सिटी फॉरेस्ट बनाने की कार्य योजना तैयार की है। उम्मीद है सिटी फॉरेस्ट के प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद अगले वित्तीय वर्ष तक काम शुरू हो जायेगा। सिटी फॉरेस्ट के डेवलप होने से पर्यटन को बढ़ावा मिलने के साथ लोग सुकून के पल बिता सकेंगे। वन विभाग ने  विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर ली गई है।
वैढऩ वन परिक्षेत्र पर बनेगा सिटी फॉरेस्ट
वन विभाग द्वारा सिटी फॉरेस्ट के लिए वैढऩ वन परिक्षेत्र की सीमा से लगे पिडऱताली में बेस्ट लोकेशन टे्रस की गई है। डीएफओ ने बताया कि बर्ड वॉचिंग व पर्यटन की दृष्टि से सिटी फॉरेस्ट में दुर्लभ प्रजातियों के पक्षी भी देखने को मिलेंगे। सिटी फॉरेस्ट को नेचुरल लुक देने के लिये भी वन विभाग के अफसरों ने कार्ययोजना तैयार की है। सिटी फॉरेस्ट में राष्ट्रीय पक्षी मोर से लेकर राजकीय पक्षी दूधराज को रखने का प्लान तैयार किया गया है। जिले में मोरों की संख्या अधिक है, जो सामान्य रूप से दिख जाते हैं। वन अधिकारियों का दावा है कि सिटी फॉरेस्ट में पक्षियों की कई प्रजातियां देखने को मिलेंगी। 
गणना की जानकारी से भी वन अफसर पक्षियों की जिले में मौजूदगी का पता लगा रहे हंै।
जंगल में पाई गई दुर्लभ प्रजातियां
गणना से यह बात सामने आई है कि सिंगरौली जिले के जंगल में पक्षियों की 10 दुर्लभ प्रजातियां पाई गई हैं। इनमें इंडियन पित्ता (नौरंगा), बॉर्न स्वालो, ग्रे हॉर्नबिल, कॉमन वुड श्राइक, ट्रिकल ब्लू फ्लाई कैचर, कॉमन इओरा, गोल्डन ओरियल, बाउन फिश ईगल आउन, ब्रस्टिड मुनिया और नाइट जार प्रजाति के पक्षी जिले के जंगल में मौजूद हैं।
ईकोलॉजिकल सिस्टम होगा तैयार
सिटी फॉरेस्ट में पक्षियों की संख्या बढ़ाने और उन्हें यहां बसाने के लिए ईकोलॉजिकल सिस्टम तैयार किया जायेगा। इसके लिए वन विभाग ने छायादार, फलदार और फूलदार पौधों को सिटी फॉरेस्ट में रोपा जायेगा। पक्षियों को भोजन और छांव के साथ पीने का साफ पानी मिल सके, इसके लिए गर्मियों में करीब डेढ़ हजार सकोरे पेड़ों पर लगाए जायेंगे, ताकि दाना-पानी मिलने पर पक्षी अपनी लाइफ सर्किल यहीं बना लें और पूरी तरह बस जायें। यहां से वापस न जायें। इसी ईकोलॉजिकल सिस्टम की वजह से विभिन्न प्रजातियों के पक्षी सिटी फॉरेस्ट के जंगल में खुद खिंचे चले आयेंगे।
केन्द्र ने मांगा था प्रस्ताव
नगर निगम क्षेत्र में सिटी फॉरेस्ट के लिये जमीन उपलब्धता को लेकर केन्द्र ने वन विभाग से प्रस्ताव मांगा था। बताया जाता है कि केन्द्र सरकार का पत्र यहां पहुंचने के बाद वन विभाग के अधिकारियों ने सिटी फॉरेस्ट के लिये स्थल का चयन कर लिया है। वन विभाग के एसडीओ एसडी सोमवानी ने बताया केन्द्र ने स्थल चयन के लिये 10 से लेकर 50 तक की भूमि का चयन करने के निर्देश दिये थे। इसके चलते वन विभाग ने पिडऱताली में भूमि का चयन करने के बाद शासन को प्रस्ताव भेजा दिया है। 
प्रस्तावित क्षेत्र में नये सिरे से होगा डेपलपमेंट
वन विभाग की जानकारी के अनुसार सिटी फॉरेस्ट के प्रस्ताव पर मंजूरी मिलने के बाद प्रस्तावित एरिया में नये सिरे पार्क को डेवलप किया जायेगा। एसडीओ ने बताया कि सिटी फॉरेस्ट को नेचुरल लुक देने के लिये पौधरोपण के साथ गार्डन तैयार किया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रस्ताव पर मंजूरी मिलने के बाद प्रस्तावित एरिया में पानी की टंकी से लेकर अन्य सुविधाओं का विस्तार किया जायेगा।
इनका कहना है
सिटी फॉरेस्ट की कार्ययोजना तैयार कर प्रस्ताव मंजूरी के लिये भेजा गया है। प्रस्ताव में मंजूरी मिलने के बाद सिटी फॉरेस्ट का कार्य शुरू हो जायेगा। सिटी फॉरेस्ट के लिये स्थान के चयन कर लिया गया है। 
-विजय सिंह, डीएफओ

कमेंट करें
8TkMl
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।