दैनिक भास्कर हिंदी: छतरपुर में कोरोना पॉजिटिव युवक ने कोविड सेंटर में लगा ली फांसी

July 29th, 2020

फांसी लगाने के दो घंटे पहले कमिश्नर ने किया था यहां का दौरा - चिरायु रेफेर न किये जाने से परेशान था मृतक
डिजिटल डेस्क छतरपुर।
दो दिन पहले कोरोना पॉजिटिव पाए गए समीर अहमद ने कोविड सेंटर के अपने कमरे में फांसी लगा ली।  समीर के बड़े पापा मो.करीम छतरपुर के एक जानेमाने सामजिक कार्यकर्ता और राजनेता हैं। समीर के पिता कमाल अहमद कांग्रेस के पार्षद रहे हैं।  सक्षम, सभ्य, सुसंस्कारित परिवार है। जूते की फैक्ट्री, थोक का व्यवसाय था। समीर खुद अपने पैरों पर खड़ा था। बस स्टैंड पर उसका अपना रेस्टोरेंट है। हालांकि यह लॉक डाउन की मार झेलते हुए तकरीबन मार्च से बन्द रहा।
कोविड सेंटर में कल समीर की दूसरी ही रात थी। वह चिंतित था कुछ बातों को लेकर, लेकिन चिंताएं सबसे नहीं कह पा रहा था।
एक कॉमन फ्रेंड को कल समीर ने बताया था कि वह जल्द से जल्द घर जाना चाह रहा था। उसे लगता था कि अगर कोरोना का इलाज ही कराना है तो चिरायु भोपाल में कराया जाए, इस सम्बंध में उनके बड़े पापा मो.करीम प्रयास कर रहे थे। लेकिन समीर के मुताबिक चिरायु जाने की बात बन नही पा रही थी।
एक और चिंता उसे अपने परिवार की भी थी,एक दोस्त से बात करते हुए समीर ने कहा था कि उसकी पत्नी और दो मासूम बच्चे तीन दिन पहले ही ननिहाल से लौटे थे।उनके सेम्पल भी लिए जाएंगे,कहीं मेरे बच्चों को भी कोरोना संक्रमण न निकले। इन्ही सब उधेड़ बुन के बीच 27 जुलाई की एक रात, 28 जुलाई का पूरा दिन समीर ने कोविड सेंटर में गुज़ारा और रात लगभग 12 बजे फाँसी लगा ली।