रीवा: पहले मोबाइल में वीडियो रिकार्ड किया, फिर फांसी लगा कर ली आत्महत्या

March 2nd, 2022

डिजिटल डेस्क,  रीवा ।  मध्यान्ह भोजन योजना का काम देख रहे एक युवक ने पांच माह से राशि का भुगतान न होने से परेशान होकर सुसाइड कर लिया। इस युवक ने आत्महत्या करने से पहले अपनी सारी व्यथा मोबाइल में रिकार्ड की है। सोहागी थाना की सोनौरी पुलिस चौकी क्षेत्र में हुई इस घटना को लेकर ग्रामीणों में काफी आक्रोश है। 
सोनौरी निवासी विनोद तिवारी ने बीती शाम भूसाघर में फांसी का फंदा तैयार कर आत्महत्या की है। खिड़की से जब लोगों ने देखा तो पुलिस को जानकारी दी। घटनास्थल पर मृतक का जब मोबाइल देखा गया तो उसमें सुसाइड से पहले रिकार्ड किया गया एक वीडियो मिला। इसे जब लोगों ने सुना तो यह बात सामने आई कि मध्यान्ह भोजन की राशि न मिलने की वजह से यह कदम उठाने को मजबूर हुआ है। 
2.50 मिनट का वीडियो 
सुसाइड से पहले रिकार्ड किया गया यह वीडियो २.५० मिनट का है। जिसमें मृतक विनोद ने अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए यह साफ किया है कि मध्यान्ह भोजन की राशि को लेकर वह मानसिक रूप से प्रताडि़त है। पांच स्कूलों में मध्यान्ह भोजन का वितरण करता है। लेकिन नवम्बर २०२१ में राशि नहीं मिल रही है। अनुबंध तैयार करने के लिए एक व्यक्ति को २० हजार रूपये  देने का जिक्र किया है। यह भी बताया है कि राशि प्राचार्य के खाते में आ रही है, लेकिन वे नहीं दे रहे हैं। आरोप है कि पचास प्रतिशत कमीशन की मांग करते हैं। वीडियों में यह भी बताया है कि वह उधारी से काम चला रहा है। जिससे कर्ज में डूब रहा है। 
पांच घंटे तक चला हंगामा, विधायक पहुंचे
युवक की मौत को लेकर पांच घंटे तक हंगामा चलता रहा। ग्रामीणों की मांग थी कि प्राचार्य पर एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तारी की जाए। इसके बाद ही शव को पीएम के लिए ले जाएंगे। विधायक श्यामलाल द्विवेदी भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने पीडि़त परिवार को आश्वस्त किया कि न्याय दिलाया जाएगा। काफी समझाइश के बाद पोस्टमार्टम हो पाया। 
भाभी चलाती है समूह
मृतक विनोद तिवारी की भाभी स्वसहायक समूह का संचालन करती है। बताते हैं कि विनोद के बड़े भाई ने भी लगभग सात साल पहले किसी कारण से आत्महत्या की थी। जिसके चलते विनोद ही अब सारा काम देख रहा था।  आर्थिक कठिनाईयों के चलते वह आत्महत्या करने को मजबूर हो गया।
- मृतक विनोद समूह का काम देखता था। घटनास्थल पर मोबाइल में एक वीडियो मिला है, जिसमें मध्यान्ह भोजन की राशि न मिलने को लेकर मृतक द्वारा कुछ बातें रिकार्ड की गई है। इसकी जांच कर पुलिस द्वारा वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।