दैनिक भास्कर हिंदी: सरकारी अस्पताल के डॉक्टर कुर्सी को लेकर भिड़े , एक दूसरे के कपड़े फाड़े - मामला दर्ज

September 19th, 2019

डिजिटल डेस्क  बड़ागांव धसान । राजनीति में कुर्सी को लेकर खींचतान होते सबने देखा और सुना होगा, लेकिन यही नजारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बड़ागांव धसान में देखने को मिला। यहां पदस्थ दो डॉक्टरों के बीच कुर्सी पर बैठने को लेकर जमकर लात-घूंसे चले। इस घटना में जहां एक डॉक्टर के कपड़े फट गए, वहीं दूसरे डॉक्टर के गले में नाखूूनों के निशान उभर आए। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में इलाज कराने पहुंचे खुद की बीमारी भूलकर डॉक्टरों का बीच-बचाव करते नजर आए। स्थानीय लोगों ने बताया कि कुछ दिन पहले भी दोनों डॉक्टरों के बीच कहासुनी हुई थी। बुधवार को बड़ागांव धसान के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र  के प्रभारी बीएमओ डॉ. प्रशांत जैन एवं डॉ. अंकित जैन के बीच विवाद हो गया। दोपहर 12 बजे के लगभग जब डॉ. अंकित जैन ओपीडी में मरीजों को देख रहे थे, उसी समय डॉ. प्रशांत जैन वहां पहुंच गए। डॉ. प्रशांत जैन ने उनसे कुर्सी से उठने को कहा तो डॉ. अंकित ने मना कर दिया। इसी को लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। देखते ही देखते दोनों के बीच जमकर मारपीट शुरू हो गई। दोनों डॉक्टरों ने एक-दूसरे पर जमकर लात-घूंसों और चांटों की बरसात कर दी। इस घटना में डॉ. प्रशांत जैन की टीशर्ट फट गई। वहीं डॉ. अंकित जैन के गले में प्रशांत जैन के नोचने से नाखूनों के निशान उभर आए थे। मौके पर मौजूद कुछ लोगों ने इस घटना का वीडियो बना लिया। इसके बाद सोशल मीडिया पर डॉक्टरों के मारपीट का वीडियो वायरल हो गया। 
प्राइवेट प्रैक्टिस करते हैं दोनों डॉक्टर 
 स्थानीय लोगों का कहना है कि दोनों डॉक्टरों के बीच का यह विवाद प्रैक्टिस को लेकर है। इन डॉक्टरों में से एक डॉक्टर का क्लीनिक तो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के सामने ही बना हुआ है। इसी बात को लेकर दोनों के बीच विवाद चल रहा है। लोग यह भी बताते हैं कि लगभग 15 दिन पहले भी दोनों के बीच विवाद हुआ था, उस दिन भी ओपीडी प्रभावित हुई थी। दोनों डॉक्टरों की इस लड़ाई का खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा है। इस समय बीमारियों का दौर चरम सीमा पर है। ऐसी स्थिति में मरीजों का इलाज करने की बजाय डॉक्टर लड़ाई में लगे हैं। 
थाने में शिकायत दर्ज कराई 
मारपीट की घटना के बाद दोनों डॉक्टरों ने एक-दूसरे के खिलाफ बड़ागांव थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई है। डॉ. अंकित जैन का कहा है कि प्रभारी बीएमओ लगातार उनके ऊपर दबाव बनाते हैं। वह उन्हें परेशान करते रहते हैं।  पहले भी वह सार्वजनिक रूप से उनके साथ अभद्रता कर चुके हैं। वहीं प्रभारी बीएमओ डॉ. प्रशांत जैन का कहना हैं कि उन्होंने डॉ. अंकित की ड्यूटी समर्रा पीएचसी में लगाई थी, लेकिन वह नहीं गए। इसी बात को लेकर इनके द्वारा मारपीट की गई है। पुलिस ने दोनों के आवेदन ले लिए हैं। 
इनका कहना है
दोनों डॉक्टरों के अस्पताल में झगडऩे और मारपीट की जानकारी लगी है। दोनों डॉक्टरों को समझाइश दी गई है। अगर इसके बाद भी उनके खिलाफ कोई शिकायत मिलती है तो सख्त एक्शन लिया जाएगा।
 -ओपी अनुरागी, सीएमएचओ, टीकमगढ़
 

खबरें और भी हैं...