comScore

हाइवा ने बाइक सवार मां व दो बेटों को कुचला , स्थल पर ही तीन मौत

हाइवा ने बाइक सवार मां व दो बेटों को कुचला , स्थल पर ही तीन मौत

डिजिटल डेस्क सिंगरौली(सरई)।जिला मुख्यालय के आसपास स्थित खदानों से हो रहे कोयला परिवहन से हर समय दुर्घटनाओं की आशंका बनी रहती है। लेकिन जिले के ग्रामीण इलाके भी कोयला वाहकों से महफूज नही हैं। गुरूवार को सुबह 11 बजे महान नदी के पुल के पास एक हाइवा ने एक बाइक को पीछे से रौंद दिया। जिसमें बाइक चालक सुनील कुमार पिता स्व. सूरज लाल शाह उम्र लगभग 17 वर्ष, अनिल कुमार पिता स्व. सूरज लाल उम्र 10 वर्ष और दोनों मृतकों की मां सिया कुमारी पति स्व. सूरज लाल शाह उम्र 45 वर्ष की मौके पर मौत हो गयी। एक ही परिवार के तीन सदस्यों की मौत से परिवार में बची दो लड़कियां कु. रीना शाह उम्र 16 वर्ष और कु. रीनू शाह उम्र 12 वर्ष पुत्रियां स्व. सूरज लाल शाह पर विपत्ति आ गयी। लापरवाह हाइवा चालक की चपेट में आए दो भाइयों और मां की मौत की सूचना मिलते ही दोनों दहाड़े खाकर गिर पड़ीं, जैसे तैसे पड़ोसियों ने सहारा दिया। आक्रोशित भीड़ ने वैढऩ सरई मार्ग में जाम लगा दिया और पुलिस के पहुंचने बाद भी तीन घंटे तक जाम की स्थिति बनी रही। घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि मेन रोड से तकरीबन 14 किमी ग्रामीण झलरी इलाके के बेलवार गांव से दो बेटे अपनी मां के साथ वैढऩ के लिये किसी काम से निकले थे। गड़ाखाड़ के पास उन्हें फोन पर सूचना मिली कि जिस काम से वह वैढऩ आ रहे हंै वह कार्य आज नहीं होगा। लिहाजा एक बाइक में सवार तीनों घर के लिये लौट पड़े। 
मौत वापस लौटा लाई
बताया जाता है कि जैसे ही इनकी बाइक महान नदी पुल के पास पहुंची, पीछे से आ रहे हाइवा ट्रक क्रमांक एमपी 66 एच 1798 ने उन्हें पीछे से टक्कर मार दी। जैसे ही बाइक व उसमें सवार तीनों गिरे, ट्रक चालक इन्हें रौंदते हुए भागने की कोशिश करने लगा और सडक़ से उतर कर वह एक पेड़ से टकरा गया। स्थानीय लोगों ने चालक को पकडऩे की कोशिश की लेकिन वह मौके से भाग निकला। जिसने भी एक साथ तीन शवों को देखा, सबकी चीख निकल गयी। तड़पते हुए तीनों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। जिसकी सूचना स्थानीय पुलिस को दी गई लेकिन जब तक पुलिस व डायल 100 वाहन पहुंचता एक साथ तीन मौतें हो चुकी थीं।
आक्रोशित भीड़ ने लगा दिया जाम
घटना के बाद आक्रोशित भीड़ ने जाम लगा दिया। लोग परिजनों के आने और दोषी चालक पर कार्रवाई की मांग करते हुए घंटो सडक़ पर जमे रहे। लोगों के आक्रोश देखते हुए पुलिस ने आनन फानन में मृतकों की शिनाख्त शुरू की लेकिन कई घंटे तक उनकी शिनाख्त नहीं हो पाने से जाम की स्थिति बनी रही। मृतकों का गांव काफी दूर होने और किसी प्रकार का पहचान पत्र उनके साथ न होने से पुलिस भी हैरत में रही। कई बार बाइक के नम्बर से पहचान की कोशिश की गई लेकिन शिनाख्त पुख्ता नहीं हो पायी। दुर्घटना के करीब दो घंटे बाद बेलवार के किसी व्यक्ति ने उनकी शिनाख्त की, तब जाकर परिजनों को सूचित किया गया तो पता चला कि अब उसके परिवार में दो छोटी बच्चियां ही बची हैं।
इनका कहना है
मृतक की परिजन दोनों बच्चियों को डेढ़ लाख रूपये नगद, 8 लाख रूपये का चेक जिला प्रशासन से आये एसडीएम के द्वारा दिया गया है। ट्रक नम्बर एमपी 66 एच 1798 के चालक के विरूद्ध आईपीसी 304 ए का मामला दर्ज किया गया है। दोपहर बाद जाम खुल गया है, तीन बजे स्थिति सामान्य हो गयी थी। मृतकों के शव का सरई में पीएम कराकर उनके घर पहुंचाया जा रहा है।
एलडी सिंह, एसडीओपी देवसर
 

कमेंट करें
8UqDI