दैनिक भास्कर हिंदी: ईमानदार पुलिस अधिकारी अरविंद इनामदार का निधन

November 8th, 2019

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र के पूर्व पुलिस महानिदेशक अरविंद इनामदार का शुक्रवार को मुंबई के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। 79 वर्षीय इनामदार का पिछले हफ्ते से अस्पताल में इलाज चल रहा था। शुक्रवार को देर रात दो बजकर करीब बीस मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली। इनामदार की गिनती पुलिस महकमे के इमानदार अफसरों में होती है। उनको जुलाई 1994 के सनसनीखेज जलगांव सेक्स प्रकरण और मानव तस्करी मामले में अपनी जाँच के लिए जाना जाता है। उन्होंने अक्टूबर 1997 से जनवरी 2000 के बीच पुलिस महानिदेशक के रूप में कार्य किया। ईनामदार ने 1983 में मुंबई शहर को अपराध से निजात दिलाने वाले मुठभेड़ विशेषज्ञ पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षित किया था जिन्होंने संगठित अपराध को नियंत्रित करने में अहम भूमिका निभाई थी। पिछले कुछ सालों से इनामदार अपने ‘‘अरविंद इनामदार फाउंडेशन’’ के माध्यम से सभी रैंकों के सेवानिवृत्त पुलिसकर्मियों को सम्मानित किया करते थे। पूर्व डीजीपी प्रवीण दीक्षित ने बताया कि इनामदार 1964 बैच के आईपीएस अधिकारी थे और उन्होंने अपने शानदार करियर के दौरान मुंबई, नागपुर, औरंगाबाद, सोलापुर और नासिक में अपनी सेवाएं दीं। जब सोलापुर जिले में इनामदार पुलिस अधीक्षक के पद पर कार्यरत थे उस समय दीक्षित उनके डिप्टी पुलिस अधीक्षक थे। दीक्षित ने कहा, “उन्होंने अपराध खत्म करने और पुलिस कर्मियों की भलाई के लिए बहुत काम किया। अपने साथ काम करने वालों के बारे में वह पूरी जानकारी रखते थे। पुलिस बल पर वह दृढ़ता से अपने विचार रखते थे।

कार्यवाहक मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इनामदार को कर्तव्य और मूल्यों के लिए समर्पित अधिकारी बताया और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। फड़नवीस ने अपने शोक संदेश में कहा-इनामदार अपने कर्तव्यों और मूल्यों के लिए समर्पित एक ईमानदार पुलिस अधिकारी के रूप में जाने जाते थे। वह हमेशा पुलिस बल में सुधार और पुलिस कर्मियों के रहन-सहन और भलाई जैसे मुद्दों पर काम करने में सबसे आगे रहते थे। उन्होंने पुलिस बल के आधुनिकीकरण के लिए काम किया।” राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने एक ट्वीट में इनामदार को आम जनता की मदद करने वाला “कानून का रक्षक” बताया।