दैनिक भास्कर हिंदी: मकर संक्रांति की मिठाई के साथ पति ने दवा कहकर भेजा जहर, नवविवाहिता की हो गई मौत

January 16th, 2020

डिजिटल डेस्क घुवारा । पति ने मायके में मौजूद नवविवाहिता पत्नी को मकर संक्रांति की मिठाई के साथ जहर भेज दिया। पत्नी की इस जहर खाने से मौत हो गई। पत्नी के परिजनों के इन गंभीर आरोपों के बाद अब भगवां पुलिस मामले की जांच कर रही है। जानकारी के अनुसार बन्न गांव निवासी रूप सिंह लोधी की बेटी कुंभा की शादी तालबेहट के दिगरा गांव में धर्मेंद्र लोधी के साथ हुई थी। कुंभा के पिता ने आरोप लगाया कि संक्रांति के लिए ससुराल से मिठाई आई थी, साथ में एक डिब्बी भी। इसके बाद पति नवविवाहिता को फोन कर बताया कि उस डिब्बी में लंबाई बढ़ाने की दवा है। किसी को मत बताना। इसका सेवन करते ही बेटी की तबियत बिगड़ गई और अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई। 
आरोप - पति के अफेयर के कारण भेजा जहर 
भगवां थाना क्षेत्र के बन्न गांव निवासी रूप सिंह लोधी की बेटी कुंभा की शादी 2 जून 19 को उत्तरप्रदेश के ललितपुर जिला के तालबेहट थाना क्षेत्र के दिगरा गांव निवासी धर्मेन्द्र सिंह लोधी के साथ हुई थी। शादी के 15 दिन रहने के बाद कुंभा मायके आ गई। इस दौरान उसने परिवार की महिलाओं को बताया कि उसके पति धर्मेन्द्र सिंह का अपनी भाभी  की बहन के साथ अफेयर है। उसने अपने पिता और परिवार के दवाब में शादी की है। भाभी की बहन से शादी करने पर उसे दहेज न मिलता इसके चलते उसके पिता ने दहेज के लालच में मेरे साथ शादी कर दी। यह बात मृतका के छोटे भाई मंगल सिंह ने कहते हुए बताया कि उसकी बहन का इसके बाद भी ससुराल आना-जाना होता रहा। मकर संक्रांति के कुछ दिन पहले ही वह मायके आई थी।
उप्र पुलिस में पदस्थ आरक्षक के हाथों से भेजा जहर 
मृत हुई कुंभा लोधी के छोटे भाई मंगल सिंह ने बताया कि दिगरा गांव से उसकी बहन का सुसर, फूफा ससुर और उत्तरप्रदेश पुलिस का एक आरक्षक व ड्राइवर फोर व्हीलर से उसके घर आए। वे मकर संक्रांति के घडिय़ा-घुल्ला और मिठाई लेकर आए थे। इस दौरान जो उत्तरप्रदेश पुलिस का आरक्षक था, वह उसके बहनोई धर्मेन्द्र सिंह का दोस्त था। उसने एक पैक गिफ्ट दिया। इसमें साड़ी व एक डिब्बी थी। इसके बाद उसने कुंभा की बात अपने मोबाइल से धर्मेन्द्र सिंह ने कराई। इस दौरान धर्मेन्द्र सिंह ने कुंभा से कहा कि गिफ्ट के साथ मैंने लंबाई बढ़ाने की दवा भेजी है। इसे खाना-खाने के बाद खा लेना। इससे तुम्हें जो शारीरिक कमजोरी दूर हो जाएगी और तुम्हारी लम्बाई बढ़ जाएगी। इस दौरान उसने कहा कि हो सकता है कि थोड़ी घबराहट हो और उल्टी भी आए। घबराना नहीं, सब ठीक हो जाएगा।
जहरीला पदार्थ खाते ही बिगड़ गई हालत 
कुंभा के भाई मंगल सिंह ने बताया कि 13 जनवरी की रात 9 बजे उसकी बहन ने खाना खाया, इसके बाद जो डिब्बी धर्मेन्द्र सिंह ने भेजी थी, उसे खोलकर उसमें रखी दवा एकसाथ पूरी खा ली। इसके बाद उसकी हालत बिगडऩे लगी। घबराहट होने लगी। उल्टियां होने लगीं। इस पर कुंभा ने बताया कि उसे लम्बाई बढ़ाने की दवा बताकर यह खाने को कहा गया था। इस पर कुंभा के पिता रूप सिंह ने रात में ही अपने दामाद धर्मेन्द्र सिंह को फोन लगाकर पूछा कि यह तुमने क्या भेजा है। इससे उसकी बेटी की हालत बिगड़ गई है। इसमें सल्फास की बदबू आ रही है। यह सुनते ही धर्मेन्द्र सिंह ने फोन काट दिया। इधर हालत बिगडऩे पर इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बड़ामलहरा लेकर आए। यहां रात करीब एक बजे कुंभा की मौत हो गई।
आरोपियों ने साक्ष्य मिटाने का भी किया प्रयास 
कुंभा की मौत की जानकारी जैसे ही उसके ससुराल के लोगों को लगी तो उसका सुसर, फूफा ससुर व अन्य लोग बन्न आ गए और कुंभा का शव अपने गांव दिगरा ले गए। इधर पीछे से रूप सिंह व उसके परिवार के लोग भी दिगरा पहुंचे। इस दौरान बगैर पोस्टमार्टम के अंतिम संस्कार करने का प्रयास किया तो रूप सिंह और उसके परिजन अपनी बेटी का शव वहां से वापस गांव ले आए। वे शव लेकर भगवां थाने पहुंचे। पुलिस ने 14 जनवरी को शव का पोस्टमार्टम कराया। इसके बाद शव उसके परिजनों को सौंप दिया। 14 जनवरी की शाम कुंभा का अंतिम संस्कार बन्न में किया गया। इधर भगवां थाने में मर्ग कायम कर विवेचना शुरू कर दी है।
 

खबरें और भी हैं...