• Dainik Bhaskar Hindi
  • State
  • I stood with BJP on each step, including CAA, NRC However, Nitish ji disagreed with the same says Chirag Paswan

दैनिक भास्कर हिंदी: मैं बीजेपी के साथ खड़ा हूं, अब देखना है बीजेपी किसके साथ है- चिराग पासवान

June 26th, 2021

डिजिटल डेस्क, पटना। लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में बगावत के बीच चिराग पासवान ने न्यूज एजेंसी ANI से बातचीत के दौरान कहा, मेरे परिवार के लोगों ने ही मेरी पार्टी को तोड़ने का काम किया है, फिलहाल मुझे अपनी पार्टी को शून्य से उस मुकाम पर लेकर जाना है जहां पापा पार्टी को हमेशा लेकर जाना चाहते थे।

मैंने शुरू से स्पष्ट किया कि मेरा गठबंधन BJP के साथ हुआ और मैं आज तक BJP के साथ खड़ा हूं। BJP के हर नीतिगत फैसले का मैंने समर्थन किया जबकि नीतीश जी ने इनके हर फैसले का विरोध किया। अब ये फैसला BJP को लेना है कि वो आने वाले समय में मेरा साथ देते हैं या नीतीश जी का। हम लोगों का पक्ष इतना मजबूत है कि मुझे इसमें कोई संदेह नहीं है कि पापा ने जो पार्टी अपने खून-पसीने से बनाई ​थी, उसका नाम और चिन्ह दोनों हमारे पास रहेंगे।

पासवान ने कहा, मैंने हनुमान की तरह प्रधानमंत्री जी का हर मुश्किल दौर में साथ दिया, आज जब हनुमान का राजनीतिक वध करने का प्रयास किया जा रहा है, मैं ये विश्वास करता हूं कि ऐसे में राम खामोशी से नहीं देखेंगे। मेरी लड़ाई केवल मेरे पिता की विचारधारा को जीवित रखने की है। मेरे चाचा (पशुपति पारस) ने पीठ पर वार किया है और मेरे पिता को धोखा दिया है। मैं इस मामले में कानूनी लड़ाई लड़ने को तैयार हूं।

बता दें कि बिहार में राजनीतिक घटनाक्रम तेजी से बदल रहे हैं। इसी बीच राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) नेता तेजस्वी यादव ने लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के नेता चिराग पासवान की तरफ एक बार फिर से दोस्ती का हाथ बढ़ाया है। तेजस्वी ने पहले चिराग को साथ आने का ऑफर दिया और अब उनकी पार्टी 5 जुलाई को रामविलास पासवान की जयंती मनाएगी। तेजस्वी के इस ऑफर पर चिराग पासवान ने उन्हें छोटा भाई कहकर शुक्रिया कहा है। 

चिराग पासवान के मसले पर अब तक बीजेपी ने चुप्पी साधी हुई है। चिराग का कहना है कि बीजेपी के मुश्किल वक्‍त में वे व उनके पिता रामविलास पासवान चट्टान की तरह खड़े रहे, लेकिन उनके मुश्किल वक्‍त में बीजेपी से कोई सहयोग नहीं मिल सका। खुद का एलजेपी पर दावा करते हुए उन्‍होंने कहा कि अगर पशुपति पारस को बतौर एलजेपी सांसद केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह मिली तो यह उन्‍हें मंजूर नहीं होगा।