comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

केरल विमान हादसा: 18 की मौत, उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने कोझिकोड का किया दौरा, मुआवजे का ऐलान

August 08th, 2020 15:49 IST

हाईलाइट

  • एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान करिपुर के कोझिकोड में दुर्घटनाग्रस्त
  • वंदे भारत मिशन के तहत दुबई से भारतीयों को लेकर केरल पहुंचा था प्लेन

डिजिटल डेस्क, कोझिकोड। केरल के कोझिकोड में शुक्रवार रात भीषण विमान हादसा हो गया, जिसमें अब तक दो पायलट समेत 18 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि करीब 127 लोगों का इलाज जारी है। दरअसल वंदे भारत मिशन के तहत दुबई से भारतीयों को लेकर केरल पहुंचा एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान करिपुर के कोझिकोड एयरपोर्ट पर लैंडिंग के दौरान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। यह विमान रनवे से फिसलने के बाद 35 फिट गहरी खाई में जा गिरा और दो टुकड़ों में टूट गया।

इस दर्दनाक हादसे को लेकर पीएम मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से लेकर तमाम राजनेताओं ने दुख जताया है। वहीं केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी, केरल के मुख्यमंत्री और राज्यपाल ने घटनास्थल का दौरा कर हालातों का जायजा लिया। केंद्र सरकार, केरल सरकार और एयर इंडिया एक्सप्रेस की ओर से मुआवजे का ऐलान किया गया है।

जानकारी के मुताबिक, विमान दुर्घटना शुक्रवार शाम 7.41 बजे हुई। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय के अनुसार, एयर इंडिया एक्सप्रेस एएक्सबी 1344 (AXB-1344) एक B737 विमान था, जिसमें 191 लोग सवार थे। हवाईहड्डे पर विजिबिलिटी कम थी। भारी बारिश हो रही थी। रनवे पर पानी भरा हुआ था। यह विमान भारी बारिश में 2,000 मीटर दृश्यता (विजिबिलिटी) के बीच रनवे 10 पर उतरा, लेकिन फिसलकर घाटी में जा गिरा और दो हिस्सों में टूट गया। विमान के पायलट डीवी साठे और को-पायलट अखिलेश कुमार की मौत हो गई। केबिन क्रू के सदस्यों को सुरक्षित बचा लिया गया। विमान में 10 नवजात बच्चे भी सवार थे। दुर्घटनास्थल पर लगभग 40 एम्बुलेंस पहुंची और यात्रियों को कोझिकोड और मलप्पुरम के अस्पतालों में भर्ती कराया गया। कई की हालत गंभीर बताई जा रही है। 

अब तक मिली जानकारी के अनुसार लैंडिंग गियर के कारण समस्या हुई थी, जिसके चलते अनुभवी पायलट ने लैंडिंग के पहले प्रयास के बाद विमान को फिर से हवा में उठाया और 15 मिनट तक उसे उड़ाया। इसके बाद जब ईंधन का टैंक खाली हो गया तब उन्होंने विमान को उतारा। यदि अनुभवी पायलट ने तत्काल यह निर्णय नहीं लिया होता तो हादसा और बड़ा हो सकता था। फिलहाल दुर्घटना के बाद कोझीकोड हवाई अड्डे को बंद कर दिया गया है। वहां उतरने वाली उड़ानों को डायवर्ट कर 80 किलोमीटर दूर कन्नूर हवाई अड्डे पर उतारा जा रहा है।

हादसे की जांच के लिए दो टीमें पहुंचीं
सभी यात्रियों और परिवार के सदस्यों को मानवीय सहायता प्रदान करने के लिए दिल्ली से दो और मुंबई से एक स्पेशल रिलीफ फ्लाइट्स की व्यवस्था की गई है। एएआईबी, डीजीसीए और फ्लाइट सेफ्टी डिपार्टमेंट घटना की जांच करने के लिए कोझीकोड पहुंच चुके हैं।

LIVE Update:

प्रत्यक्षदर्शी एएसआई अजीत सिंह ने बताई हादसे की कहानी

कोझिकोड विमान हादसे को लेकर एयरपोर्ट-2 के आईजी सीवी आनंद ने बताया, विमान की पहली और अंतिम दो-तीन पंक्ति बुरी तरह प्रभावित हुईं थीं। कुछ यात्री विमान में फंसे थे और उनको ​बाहर निकालने के लिए मेटल कटर का इस्तेमाल किया गया। कॉकपिट बाउंड्री वॉल से टकराया था, जेसीबी और मेटल कटर की मदद से दोनों पॉयलटों को बहुत मुश्किल से बाहर निकाला गया।

एयर इंडिया एक्सप्रेस ने किया मुआवजे का ऐलान
वहीं एयर इंडिया एक्सप्रेस हादसे के पीड़ितों को तत्काल राहत देने के लिए अंतरिम मुआवजा देगी। एयरलाइन ने एक बयान में कहा, तत्काल राहत प्रदान करने के लिए अंतरिम मुआवजे के रूप में एआई एक्सप्रेस 12 साल और उससे अधिक उम्र के मृतक यात्री के परिजनों को 10 लाख रुपये, 12 साल से कम उम्र के मृतक के परिजनों को 5 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायल यात्रियों को 2 लाख रुपये देगी।

घायलों के इलाज का खर्च उठाएगी केरल सरकार
केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने दुर्घटना में मारे गए प्रत्येक यात्री के परिजनों को 10 लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है। सीएम ने कहा, हादसे में घायल सभी लोगों के इलाज का खर्च भी राज्य सरकार देगी। मारे गए लोगों सहित सभी पीड़ितों का कोरोना टेस्ट भी कराया जाएगा। अब तक केवल एक पीड़ित का कोविड टेस्ट पॉजिटिव आया है।

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ऐलान किया है कि, अंतरिम राहत के रूप में प्रत्येक मृतक के परिजनों को 10 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायलों को 2 लाख रुपये और मामूली घायल हुए लोगों को 50 हजार रुपये की सहायता राशि दी जाएगी।

विमान दुर्घटना के बाद हालात और राहत उपायों का जायजा लेने के लिए नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी कोझिकोड पहुंचे।

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने कोझिकोड मेडिकल कॉलेज का दौरा किया और विमान हादसे में घायल हुए यात्रियों का हाल जाना।

मलप्पुरम के कलेक्टर के गोपालकृष्णन ने विमान हादसे की जानकारी देते हुए बताया, विमान में 180 यात्री सवार थे। इनमें 6 क्रू के सदस्य थे। हादसे में 149 यात्री घायल हुए हैं, जिन्हें मलप्पुरम और कोझिकोड के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। 22 की हालत गंभीर है। 22 लोगों को प्राथमिक उपचार के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया है।

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने एयरपोर्ट का दौरा किया। 

जांच करने पहुंची डीजीसीए की एक टीम ने विमान का ब्लैक बॉक्स बरामद कर लिया है। ब्लैक बॉक्स फ्लाइट डेटा के अलावा पायलटों के बीच हुई बातचीत और साथ ही उनके और एयर ट्रैफिक कंट्रोल टॉवर के बीच हुए संवाद को रिकॉर्ड करता है। केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने कोझिकोड एयरपोर्ट का दौरा किया।

विमान की क्रैश लैंडिंग को लेकर नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DG), नागरिक उड्डयन मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण(AAI) और एयर नेविगेशन सेवा के मेंबर आज दिल्ली में बैठक करेंगे।

DGCA के अधिकारी के मुताबिक, विमान से डिजिटल फ्लाइट डेटा रिकॉर्डर (DFDR) बरामद किया गया है। कॉकपिट वॉयस रिकॉर्डर (CVR) के लिए फ्लोरबोर्ड को काटा जा रहा है।

घटनास्थल का दौरान करने के बाद केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने कहा, मैंने देखा, विमान दो टुकड़ों में टूटा है। जांच चल रही है। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (DGCA) ने पहले ही जांच के आदेश दे दिए हैं।

भारत में जापान के राजदूत सतोशी सुजूकी ने विमान हादसे पर दुख जताया।

नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ग्यावली ने दुख जताते हुए मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की है।

जारी किया गया हेल्पलाइन नंबर
एयर इंडिया ने यात्रियों के संबंध में जानकारी के लिए पैसेंजर इन्फॉर्मेशन सेंटर शुरू किया है। विमान में सवार यात्रियों के परिजन या दोस्त-रिश्तेदार उनके संबंध में जानकारी के लिए संपर्क कर सकते हैं। जारी हेल्पलाइन नंबर (0565463903, 0543090572, 0543090572, 0543090575) पर संपर्क किया जा सकता है। इसके अलावा कंट्रोल रूम के भी नंबर दिए गए हैं।

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे के तुरंत बाद ही जमीनी हालात का जायजा लेने के लिए केरल के मुख्यमंत्री पिनरई विजयन से बात की। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, कोझिकोड में विमान दुर्घटना से दुखी हूं। घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने भी ट्वीट कर दुख जताया।

कमेंट करें
wVq9A
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।