दैनिक भास्कर हिंदी: हत्यारे को कब्रिस्तान में नहीं देंगे दो गज जमीन, वकील नहीं करेंगे पैरवी

June 15th, 2019

डिजिटज डेस्क, छतरपुर। यहां एक 14 वर्षीय मासूम के साथ दुराचार की कोशिश नाकाम होने पर उसे जिंदा जला देने वाले आरोपी दरिंदे के खिलाफ समाज में आक्रोश बढ़ता जा रहा है । स्थानीय मुस्लिम समाज ने मस्जिद में एक बैठक आयेाजित कर यह निर्णय लिया है कि आरोपी के परिवार का सामाजिक बहिष्कार करेंगे और मरने के बाद आरोपी को दो गज जमीन कब्रिस्तान में नहीं दी जाएगी। 

बढ़ रहा आक्रोश

गौरतलब है कि पांच दिन पहले नगर की बेटी की आकस्मिक मौत के बाद चारों तरफ से विरोध के स्वर सुनाई दे रहे हैं। पहले नगर की जनता ने सामूहिक विरोध, कैंडल मार्च फिर मुस्लिम भाइयों ने उस परिवार का सामूहिक रूप से बहिष्कार और मरने के बाद भी कब्रिस्तान में जगह न देने का फैसला कर ऐतिहासिक निर्णय लिया। उसी कड़ी में शुक्रवार को लोगों द्वारा अधिवक्ता संघ अध्यक्ष को एक ज्ञापन सौंपकर रफीक का केस किसी भी स्थानीय अधिवक्ता के द्वारा नहीं लड़ने की मांग की थी।
 

निर्णय न मानने वाले की सदस्यता सताप्त होगी

शुक्रवार को बार संघ की बैठक में निर्णय लिया गया कोई भी वकील इस केस को  नहीं लड़ेगा, जो भी आरोपी का केस लड़ेगा, अधिवक्ता संघ उसकी सदस्यता समाप्त कर निंदा प्रस्ताव पारित करेगा। अध्यक्ष सूरज देव मिश्रा ने सदस्यों के सामने वह ज्ञापन रखा। जिसमें नगर की जनता के द्वारा एसोसिएशन से मांग की गई कि नगर में हुए इस कृत्य के विरोध में नौगांव का कोई भी अधिवक्ता आरोपी रफीक की पैरवी न करे। अध्यक्ष ने यह प्रस्ताव अपनी समिति के समक्ष रखा। सर्व सम्मति से यह निर्णय लिया गया कि बार एसोसिएशन का कोई भी सदस्य आरोपी रफीक की पैरवी नहीं करेगा। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी सदस्यता समाप्त करने के साथ निंदा प्रस्ताव पारित किया जाएगा। इस मौके पर नितिन  तिवारी, रामकुमार तिवारी, कृष्णस्वरूप नायक, शिवनारायण दीक्षित, संजीव तिवारी, अनिल त्रिपाठी, मो मुस्तकीन, मो0 शान, विकास गर्ग, धीरेन्द्र गौर, वंदना सक्सेना, पुरषोत्तम  सोनी, जनार्दन  मिश्रा, सौरभ सक्सेना आदि  मौजूद रहे।