बढ़ रहे मरीज: डेंगू के सीरोटाइप की जांच के लिए मेयो ने पुणे भेजे 100 सैंपल

September 21st, 2021

 डिजिटल डेस्क, नागपुर। जिले में पिछले एक माह के अंदर कोविड की तुलना में डेंगू के मरीज तेजी से बढ़े हैं। ग्रामीण में करीब 1000 और शहर में 700 डेंगू के मरीज सामने आए हैं। डेंगू के भी 4 अलग वेरिएंट होते हैं। कई राज्यों में इसके टाइप 1, 2, 3 और 4 वेरिएंट मिले हैं। नागपुर में इसके  लिए स्वास्थ्य विभाग या मनपा प्रशासन की ओर से कोई जांच नहीं की गई है, लेकिन मेयो के माइक्रोबॉयोलॉजी विभाग से इसकी जांच के लिए करीब 100 सैंपल पुणे भेजे गए हैं। 

डेंगू के बढ़े मरीज
डेंगू, वायरस विषाणु से होता है। इसके चार टाइप डेन 1, डेन 2, डेन 3 और डेन 4 हैं। इसे सीरोटाइप कहा जाता है। यह एडीज मच्छर के काटने से होता है, जो दिन में काटता है। सामान्यत: डेंगू के डेन 1 और डेन 3 के ही मरीज मिलते हैं। डेन 2 और 4 वायरल स्ट्रेन हैं यानी अधिक घातक हैं। इसे हड्डी तोड़ बुखार भी कहा जाता है। इसमें टाइप 1 में सामान्य डेंगू बुखार, टाइप 2 में हिमोरेजिक फीवर विद शॉक, टाइप 3 में फीवर विदआउट शॉक और टाइप 4 में फीवर विदआउट शॉक और प्रोफाउंड शॉक होता है। हाल ही में कई राज्यों में डेंगू के मरीज बढ़े हैं। इसमें दिल्ली और उत्तर प्रदेश में टाइप 1 और 2, मध्यप्रदेश में टाइप 2, गुजरात में 1, 2 और 3, पश्चिम बंगाल में टाइप 2, 3 और 4 मिले हैं। इसी तरह नागपुर में भी इसकी जांच के लिए इंदिरा गांधी शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय व अस्पताल से 17 सितंबर को ही करीब 100 सैंपल पुणे के नेशनल इंस्टीट्यूट आॅफ वॉयरोलॉजी में जांच के लिए भेजे गए हैं। हालांकि नागपुर में पिछले साल भी इसकी जांच की गई थी, जिसमें डेंगू के चारों वेरिएंट मिले थे। 

रिपोर्ट आने पर स्पष्ट होगी स्थिति
डेंगू के सीरोटाइप की जांच के लिए हमने 17 सितंबर को ही पुणे के एनआईवी में सैंपल भेजे हैं। पिछली बार भी यह जांच की गई थी जिसमें नागपुर क्षेत्र में चारों टाइप मिले थे। इस बार अधिक सैंपल भेजे गए हैं। रिपोर्ट आने पर स्पष्ट होगा कि स्थिति क्या है। यह सामान्यत: शोध के लिए भेजे जाते हैं। -डॉ. शर्मिला राऊत, विभागाध्यक्ष,माक्रोबायोलॉजी िवभाग, डे
 

खबरें और भी हैं...