comScore

खनिज इंस्पेक्टर ने एमओ पर प्रताडऩा और जातिगत अपमानित करने के आरोप लगाए

खनिज इंस्पेक्टर ने एमओ पर प्रताडऩा और जातिगत अपमानित करने के आरोप लगाए

डिजिटल डेस्क छतरपुर । जिले का खनिज कार्यालय एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार किसी रेत खदान के आवंटन के लिए नहीं बल्कि खनिज विभाग में पदस्थ इंस्पेक्टर और खनिज अधिकारी के बीच हुए विवाद की वजह से चर्चाओं में है। खनिज इंस्पेक्टर गोविंद पाल ने खनिज अधिकारी अमित मिश्रा पर आरोप लगाया है कि खनिज अधिकारी ने उन्हें अपने चंैबर में बुलाकर उसके साथ अभद्रता पूर्ण व्यवहार कर पूरे आफिस स्टाफ के सामने चरित्र हनन किया है। पीडि़त माइनिंग इंस्पेक्टर का कहना है कि बुधवार को वे खजिन अधिकारी अमित मिश्रा के पास गए, उसी समय उन्होंने उनके साथ अभद्रता से बातचीत कर अपमानित किया। 
कार्य विभाजन को लेकर तकरार
 खनिज इंस्पेक्टर गोविंद पाल का कहना है कि जुलाई माह में इंदौर से तबादला कर उन्हें छतरपुर खनिज आफिस में पदस्थ किया गया। जब से उनकी पदस्थापना हुई, तब से लेकर आज तक उन्हें कार्य करने के लिए तहसील क्षेत्रों का आवंटन खनिज अधिकारी द्वारा नहीं किया गया। पीडि़त इंस्पेक्टर का कहना है कि खनिज अधिकारी को कई बार कार्य क्षेत्र आवंटन के लिए आवेदन दिया गया, लेकिन उन्होंने मौखिक रूप से कार्य करने के लिए कह देते हैं। लिखित में कोई आदेश नहीं देते हैं। आग्रह करने पर अपमानजनक व्यवहार भी करते हैं। 
चहेतों को  मलाईदार तहसीलें
पीडि़त का कहना है कि खनिज अधिकारी कार्यालय में जातिवाद को बढ़ावा देते हैं। वे अपने चहेते इंस्पेक्टर अजय मिश्रा को मलाईदार तहसील में कार्य करने के लिए देते हैं। इंस्पेक्टर गोविंद पाल का कहना है कि पूरी तहसीलें इस्पेक्टर अजय मिश्रा को निरीक्षण के लिए दी गई हैं। वे कई बार कार्य विभाजन किए जाने के लिए खनिज अधिकारी से गुहार लगा चुके हैं, लेकिन अभी तक कार्य विभाजन नहीं किया गया।
फील्ड में जाने के लिए नहीं मिलते सैनिक
 गोविंद पाल का यह भी कहना है कि जब रेत खदानों की जांच के लिए वे जाते हैं तो सुरक्षा के लिहाज से उन्हें होमगार्ड सैनिक तक नहीं दिए जाते हैं। कई बार रेत कारोबारी उनसे यह तक पूछने लगते हैं कि आपके पास किस तहसील क्षेत्र का प्रभार है। लिखित आदेश दिखाइए। उसके के बाद जांच करने दी जाएगी। इंस्पेक्टर के पास अधिकारी का लिखित आदेश न होने और सुरक्षा के लिए सैनिक न मिलने की वजह से वे चाह कर भी काम नहीं कर पा रहे हंै।
कलेक्टर से शिकायत
खनिज अधिकारी द्वारा प्रताडि़त किए जाने से परेशान खनिज इंस्पेक्टर गोविंद पाल ने कलेक्टर मोहित बुंदस से शिकायत की है। उनका आरोप है कि जब वे कलेक्टर से मिलने जा रहे थे। तब भी कुछ लोगों ने उन्हें कलेक्टर से मिलने से रोकने का प्रयास किया।
आरोप निराधार, ऐसा कुछ नहीं हुआ
इस मामले में खनिज अधिकारी अमित मिश्रा का कहना है कि खनिज इंस्पेक्टर गोविंद पाल द्वारा लगाए गए आरोप निराधार है। उन्हें मौखिक रुप से कार्य करने के लिए कई बार निर्देश दिए गए हैं। कार्य विभाजन की फाइल कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत की गई है। जल्द ही कार्य का विभाजन कर दिया जाएगा।
 

कमेंट करें
ut6RO