राजनीतिक दलों की राष्ट्रीय टीम में नागपुर से शब्बीर विद्रोही शामिल

National team of political parties included Shabbir vidrohi from Nagpur
राजनीतिक दलों की राष्ट्रीय टीम में नागपुर से शब्बीर विद्रोही शामिल
राजनीतिक दलों की राष्ट्रीय टीम में नागपुर से शब्बीर विद्रोही शामिल

डिजिटल डेस्क, नागपुर। राजनीतिक दलों की राष्ट्रीय टीम में उपराजधानी से एक और नाम जुड़ गया है। शरद पवार के नेतृत्व की राकांपा ने शब्बीर विद्रोही को अल्पसंख्यक सेल का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया है। कुछ समय पहले ही अखिल भारतीय कांग्रेस के अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ की जिम्मेदारी पूर्व मंत्री नितीन राऊत को मिली। इसके अलावा कांग्रेस में मुकुल वासनिक व अविनाश पांडे अखिल भारतीय स्तर पर महासचिव पद की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। राजनीतिक जानकारों का कहना है कि विदर्भ में राजनीतिक जनाधार को देखते हुए प्रमुख दल यहां के प्रतिनिधियों को महत्वपूर्ण स्थान दे रहे हैं।

गौरतलब है कि केंद्रीय राजनीति में सक्रिय होने के बाद भी पहले यहां के प्रतिनिधियों को महत्वपूर्ण पद कम ही मिल पाता था। जनसंघ के समय में यहां के जनप्रतिनिधि राष्ट्रीय स्तर पर अहम पद पाते थे। यहीं से पंडित बच्छराज व्यास को जनसंघ का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने का मौका मिला था। उसके बाद राष्ट्रीय स्तर पर संगठनात्मक मामले में यहां से प्रतिनिधित्व की कमी रही। नितीन गडकरी को भाजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया। उसके बाद नागपुर राष्ट्रीय स्तर पर राजनीति के केंद्र में आ गया। फिलहाल राज्य व केंद्र में यहां के प्रतिनिधियों को महत्वपूर्ण पद मिलने लगा है।

कांग्रेस ने तो नागपुर जिले से करीब आधा दर्जन पदाधिकारियों को प्रदेश स्तर पर महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दे रखी हैं। प्रफुल गुडधे, रामकिशन ओझा, बबनराव तायवाडे, सुरेश भोयर को प्रदेश महासचिव बनाया गया है। उमाकांत अग्निहोत्री, अतुल कोटेचा, मुजीब पठाण प्रदेश सचिव बनाए गए हैं। भाजपा की युवा इकाई भाजयुमो ने पूर्व महापौर प्रवीण दटके को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया है। कांग्रेस के नगरसेवक बंटी शेलके युवक कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव पद की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। प्रदेश भाजपा में अल्पसंख्यक व अनुसूचित जाति मोर्चा की कमान नागपुर के प्रतिनिधि काे दी गई है।

उधर बसपा ने भी प्रदेश की कमान नागपुर के प्रतिनिधि को सौंपी है। सुरेश साखरे बसपा के प्रदेश अध्यक्ष बने हैं। साखरे ने बसपा की प्रदेश टीम में सबसे अधिक नागपुर के सहयोगियों को शामिल किया है। बसपा के प्रदेश उपाध्यक्ष व प्रदेश महासचिव नागपुर से ही है। राकांपा ने हाल ही में प्रवीण कुंटे व दीनानाथ पडोले को प्रदेश महासचिव बनाया। अब शब्बीर विद्रोही को राष्ट्रीय स्तर पर अल्पसंख्यक विभाग की जिम्मेदारी सौंपी है। विद्रोही राकांपा के प्रखर वक्ता माने जाते हैं। चुनाव प्रचार में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रहती है। वे पहले भी राकांपा के अल्पसंख्यक मोर्चा में काम कर चुके हैं। लेकिन तत्कालीन वरिष्ठ पदाधिकारियों के साथ मतभेद होने से वे संगठनात्मक मामले से दूर रहे हैं।

राष्ट्रीयता पहला काम
अध्यक्ष राकांपा अल्पसंख्यक सेल शब्बीर विद्रोही का कहना है कि संगठन व राजनीतिक मामले में राष्ट्रीयता को बढ़ावा देना पहला काम रहेगा। अल्पसंख्यक श्रेणी में विविध समाज आते हैं। सभी के विषयों को संगठन व सरकार के सामने रखने का प्रयास किया जाएगा। संपर्क,संवाद व संकल्प के सूत्र के साथ संगठन का काम मिलजुलकर करेंगे।

Created On :   5 Sep 2018 12:46 PM GMT

और पढ़ेंकम पढ़ें
Next Story