दैनिक भास्कर हिंदी: CM से मिले उत्तर भारतीय नेता सुनाया दर्द, मनसे ने अवैध फेरीवालों के खिलाफ खोला मोर्चा

October 25th, 2017

डिजिटल डेस्क, मुंबई। एलफिंस्टन हादसे के बाद मुंबई में फेरीवालों को लेकर राजनीति शुरू हो गई। एक तरफ महाराष्ट्र नव निर्माण सेना फेरीवालों के खिलाफ अभियान चला रही है, तो दूसरी ओर कांग्रेस और बीजेपी फेरीवालों के बचाव में उतर आईं हैं। बुधवार को मनसे ने फेरीवालों के खिलाफ कार्रवाई में असफल रहे प्रशासन के खिलाफ मूकमोर्चा निकाला, वहीं बीजेपी नेताओं ने सीएम से मुलाकात कर मनसे के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए ज्ञापन सौंपा। मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम भी पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ फेरीवालों पर हमले का विरोध करने मैदान में उतर गए और प्रदर्शन किया। गौरतलब है कि पिछले दिनों राज ठाकरे की पार्टी के कार्यकर्ताओं ने फेरीवालों के साथ मारपीट की थी।

बीएमसी और रेलवे प्रशासन का विरोध

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के करीब 40 कार्यकर्ताओं ने दादर इलाके में मूक मोर्चा निकाला और फेरीवालों के खिलाफ कार्रवाई में असफल रही बीएमसी और रेलवे का विरोध किया। लेकिन इस मोर्चे की पहले से इजाजत न लिए जाने के चलते शिवाजी पार्क पुलिस ने सभी मनसे कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया। हालांकि बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया। डीसीपी राजीव जैन के मुताबिक इजाजत न दिए जाने के बावजूद मनसे कार्यकर्ताओं ने नक्षत्र और सुविधा मॉल के बाहर प्रदर्शन किया इसके चलते उन्हें हिरासत में ले लिया गया। वहीं संजय निरुपम की अगुआई में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने फेरीवालों के समर्थन में मोर्चा निकाला और मनसे के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।  

सीएम से की शिकायत

बीजेपी उत्तर भारतीय मोर्चे के पदाधिकारियों ने सीएम देवेंद्र फडणवीस से मुलाकात की और उनसे अनुरोध किया कि वे प्रशासन को हिदायत दें कि उत्तर भारतीय फेरीवालों से मारपीट कर रहे मनसे नेताओं पर शिकंजा कसा जाए क्योंकि फेरीवाले बेहद डरे हुए हैं। प्रतिनिधिमंडल में राज्यमंत्री विद्या ठाकुर, बीजेपीउत्तरभारतीय मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष जयप्रकाश ठाकुर, मोर्चा के मुंबई अध्यक्ष संतोष पांडेय और मुंबई बीजेपीके महासचिव अमरजीत मिश्र शामिल थे।