37 दिन से रद्द जबलपुर-अंबिकापुर एक्सप्रेस एक दिन चली: शहडोल, अनूपपुर व उमरिया से गुजरने वाली यात्री ट्रेनों के लगातार रद्द होने से बढ़ी यात्रियों की परेशानी

May 6th, 2022

डिजिटल डेस्क, शहडोल। जबलपुर-अंबिकापुर एक्सप्रेस ट्रेन क्रमांक 11265 पांच से 23 मई तक 19 दिन के लिए रद्द कर दी गई। इससे पहले यह एक्सप्रेस ट्रेन 28 मार्च से 3 मई तक 37 दिन रद्द रही और एक दिन 4 मई को ही पटरी पर दौड़ी। रेल्वे बोर्ड द्वारा संभागीय मुख्यालय शहडोल से गुजरने वाली अलग-अलग 10 यात्री ट्रेनों को रद्द किया गया है। यात्री ट्रेनों को लगातार रद्द करन से यात्री परेशान हैं। आदिवासी बाहुल्य जिला शहडोल, अनूपपुर व उमरिया से प्रतिदिन बड़ी संख्या में लोग इलाज, पढ़ाई व दूसरे जरुरी कार्यों को लेकर जबलपुर, कटनी, बिलासपुर व नागपुर सहित अन्य शहरों तक ट्रेन से सफर करते हैं। इन यात्रियों ने बताया कि रेल्वे द्वारा लगातार यात्री ट्रेनों को रद्द करने से आए दिन दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। सांसद हिमाद्री सिंह का कहना है कि रेलमंत्री को ट्रेन रद्द होने से यात्रियों की परेशानी से अवगत करा चुकी हैं।

ये ट्रेनें की गई हैं रद्द-

18236/18235 बिलासपुर-भोपाल-बिलासपुर एक्सप्रेस 5 से 24 मई
18247 बिलासपुर-रीवा 5 से 23 मई तक
18248 रीवा-बिलासपुर एक्सप्रेस 6 से 24 मई तक
11265 जबलपुर-अंबिकापुर 5 से 23 मई तक
11266 अंबिकापुर-जबलपुर 6 से 24 मई तक
12767 नांदेड़-संतरागाछी एक्सप्रेस 9 व 16 मई को
12768 संतरागाछी-नांदेड़ एक्सप्रेस 11 व 18 मई को
22169 रानी कमलापति-संतरागाछी 11 व 18 मई को
22170 संतरागाछी-रानी कमलापति 12 व 19 मई को
08740/08739 बिलासपुर-शहडोल-बिलासपुर मेमू पैसेंजर 5 से 24 मई तक

जबलपुर में दो घंटे का काम हो तो लगता है 24 घंटे समय-

यात्रियों ने बताया कि यात्री ट्रेन रद्द होने के बाद किसी को दो घंटे के काम से शहडोल से जबलपुर (ट्रेन में लगने वाला समय 4 घंटे) जाना हुआ तो 24 घंटे से ज्यादा समय लग जाता है। लोग रात में अमरकंटक एक्सप्रेस से रवाना होकर सुबह 4 बजे पहुंचते हैं। वहां होटल में रुककर अगले दिन रात में 9 बजे वापस लौटते हैं तो डेढ़ बजे रात वापस पहुंचते हैं।

शादी ब्याह के सीजन में खरीददारी मुश्किल-

जिन परिवारों को बच्चों को शादी ब्याह करनी है ऐसे परिवार कटनी, बिलासपुर, जबलपुर व अन्य शहरों में खरीददारी करते हैं। वर्तमान में शहडोल से कटनी के लिए एक मेमू ट्रेन है, लेकिन वहां पहुंचकर वह फौरन वापस आती है और लोगों को रात में अमरकंटक एक्सप्रेस से वापस आने विवश होना पड़ता है। इसमें भी रिजर्वेशन जरुरी है। टिकट कन्फर्म नहीं हुई तो परेशानी अलग।

रेलमंत्री को दी है जानकारी-

हिमाद्री सिंह (सांसद शहडोल) का कहना है कि यात्री ट्रेनें रद्द होने से अंचल के नागरिकों की परेशानी से रेलमंत्री को अवगत करा चुके हैं। आगे फिर संपर्क कर परेशानी बताएंगे। कोशिश होगी रद्द ट्रेनें जल्दी चालू हो।

खबरें और भी हैं...